जोड़ों के उपचार व उन्हें मजबूत बनाने के लिए 6 योगासन

जोड़ों के उपचार व उन्हें मजबूत बनाने के लिए निम्न योगासन उपयोगी है: वीर-भद्रासन धनुरासन त्रिकोणासन सेतु-बंध आसन मकर अधोमुख श्वानासन उस्ट्रासन वीर-भद्रासन यह आसन घुटनों को सुदृढ़ बनाता है तथा जकड़े हुए कन्धों को सक्रिय करने में सहायक है। यह कन्धों से तनाव मिटा कर शरीर को संतुलन प्रदान करता है। धनुरासन धनुरासन बंध
 
जोड़ों के उपचार व उन्हें मजबूत बनाने के लिए 6 योगासन

जोड़ों के उपचार व उन्हें मजबूत बनाने के लिए निम्न योगासन उपयोगी है:

वीर-भद्रासन
धनुरासन
त्रिकोणासन
सेतु-बंध आसन
मकर अधोमुख श्वानासन
उस्ट्रासन

वीर-भद्रासन

यह आसन घुटनों को सुदृढ़ बनाता है तथा जकड़े हुए कन्धों को सक्रिय करने में सहायक है। यह कन्धों से तनाव मिटा कर शरीर को संतुलन प्रदान करता है।

धनुरासन

धनुरासन बंध कंधो को खोलता है। यह पीठ को लचीला बनाता है। तथा शरीर से तनाव व जड़ता को दूर करता है।

सेतु-बंध आसन

यह आसन घुटनों की मांसपेशियों को मजबूत करता है तथा ऑस्टियोपोरोसिस (अस्थि सुषिरता) रोग में भी लाभकारी है। यह मस्तिष्क को शांत करता है। रोगी को चिन्ता से मुक्त कर शरीर के तनाव को कम करता है।

त्रिकोणासन

त्रिकोणासन हमारी टांगों, घुटनों व टखनों को मजबूत करने में लाभकारी है। यह सायटिका व कमर-दर्द में भी राहत प्रदान करता है। यह घुटनों की नस, कमर, जंघा की संधि व नितम्ब में खिंचाव उत्पन्न कर उनको गतिशीलता प्रदान करता है।

उस्ट्रासन

यह कंधो व पीठ को मजबूती प्रदान करने वाला एक प्रभावशाली आसन है। यह रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाए रखने में मदद करता है। शारीरिक मुद्रा में सुधार होता है तथा कमर के अधोभाग का दर्द को घटता है।

मकर अधोमुख श्वानासन

यह आसन कंधो व घुटने की नसों में खिंचाव पैदा करता है। यह कलाई, भुजाओ व टांगों को मजबूत करता है, कमर दर्द में लाभकारी है तथा शारीरिक जड़ता को समाप्त करता है। यह आसन औस्टोपोरोसिस रोग से बचाव में भी सहायक है।

From Around the web