कल सुबह से 10 दिन तक राशि के अनुसार करें माता रानी की पूजा, सारे बिगड़े काम हो जायेंगे पुरे

मेष राशि इस राशि के लोगों को स्कंद माता की विशेष रूप से पूजा करनी चाहिए। दुर्गा सप्तशती या दुर्गा चालीसा का पाठ करें। स्कंदमाता करुणामय हैं जिनके पास उत्साह का भाव है। वृषभ राशि वृषभ राशि के लोग महागौरी रूप की पूजा करके विशेष फल प्राप्त करते हैं। ललिता सहस्र नाम का पाठ करें।
 
कल सुबह से 10 दिन तक राशि के अनुसार करें माता रानी की पूजा, सारे बिगड़े काम हो जायेंगे पुरे

मेष राशि

इस राशि के लोगों को स्कंद माता की विशेष रूप से पूजा करनी चाहिए। दुर्गा सप्तशती या दुर्गा चालीसा का पाठ करें। स्कंदमाता करुणामय हैं जिनके पास उत्साह का भाव है।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के लोग महागौरी रूप की पूजा करके विशेष फल प्राप्त करते हैं। ललिता सहस्र नाम का पाठ करें। अविवाहित लड़कियों को पूजा करने से सबसे अच्छा वर मिलता है।

मिथुन राशि

इस राशि के लोगों को देवी यंत्रों को स्थापित करके ब्रह्मचारिणी की पूजा करे। साथ ही प्रतिदिन तारा कवच का पाठ जरूर करे। मां ब्रह्मचारिणी विद्या प्रदाता है ज्ञान के मार्ग आने वाली बाधाओं को दूर करती हैं।

कर्क राशि

कर्क राशि के लोगों को शैलपुत्री की पूजा करनी चाहिए। लक्ष्मी सहस्रनाम का पाठ करें। भगवती की वरदा मुद्रा अभय दान देती है।

सिंह राशि

सिंह राशि के लिए मां कूष्मांडा की साधना विशेष फल देने वाली है। दुर्गा मंत्रों का जाप करें। ऐसा माना जाता है कि ब्रह्मांड की उत्पत्ति केवल देवी माँ के हास्य से हुई थी। देवी बाली प्रिया हैं  यानी देवी के चरणों में बुराईयों का त्याग

करने का अनुरोध करे।

कन्या राशि

इस राशि के लोगों को ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी चाहिए। लक्ष्मी मंत्रों की प्रक्रिया का जाप करें। ज्ञान प्रदान करने वाली ज्ञान मार्ग की बाधाओं को दूर करती है। देवी की साधना छात्रों के लिए लाभदायक है।

तुला राशि

तुला राशि के लोग महागौरी की पूजा करने से विशेष फल पाते हैं। काली चालीसा या सप्तशती का पहला चरित्र पढ़ें। सार्वजनिक कल्याण होगा। अविवाहित लड़कियों को पूजा करने से सबसे अच्छा वर मिलता है।

वृश्चिक राशि

स्कंदमाता की उपासना वृश्चिक राशि के जातकों को श्रेष्ठ फल देती है। दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। उसे बहुत अच्छा अहसास होता है।

धनु राशि

इन राशियों के लिए चंद्रघंटा की पूजा करें। संबंधित मंत्रों का अनुष्ठान उचित रूप से करें। घंटा उस ब्रह्मनाद का प्रतीक है जो साधक के भय और उसकी ध्वनि के साथ बाधाओं को नष्ट कर देता है।

मकर राशि

मकर राशि वालों के लिए कालरात्रि की पूजा सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। नरवाना मंत्र का जाप करें। अंधेरे में, भक्त प्राकृतिक प्रकोप, आग आदि का मार्गदर्शन करते हैं और शत्रु को नष्ट करते हैं।

कुंभ राशि :

कुंभ राशि के लोगों के लिए कालरात्रि की पूजा लाभदायक है। देवी कवच ​​का पाठ करें। अंधेरे में, भक्त प्राकृतिक क्रोध का मार्गदर्शन करते हैं और उसे कम करते हैं। शत्रु विनाशक हैं |

मीन राशि

मीन राशि के लोगों को चंद्रघंटा की पूजा करनी चाहिए। जितना संभव हो सके हरिद्रा की माला से बगलामुखी मंत्र का जाप करें। घंटा ब्राह्मणवाद का प्रतीक है जो साधक के भय और बाधाओं को नष्ट कर देता है।

From Around the web