शनिदेव की नजरों में 4 साल तक रहने वाले हैं ये राशि के जातक

शनि जब भी अपनी राशि बदलता है तो किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती शुरू होती है तो किसी पर शनि की ढैय्या। साथ ही ज्योतिष के अनुसार शनि एक साथ 5 राशियों पर अपना प्रभाव डालता है। उनकी चक्र अवधि एक वर्ष है। शनि को कर्म का दाता माना जाता है। और यह भी
 
शनिदेव की नजरों में 4 साल तक रहने वाले हैं ये राशि के जातक

शनि जब भी अपनी राशि बदलता है तो किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती शुरू होती है तो किसी पर शनि की ढैय्या। साथ ही ज्योतिष के अनुसार शनि एक साथ 5 राशियों पर अपना प्रभाव डालता है। उनकी चक्र अवधि एक वर्ष है।

शनि को कर्म का दाता माना जाता है। और यह भी माना जाता है कि वे लोगों को उनके कर्मों के अनुसार फल देते हैं। यहां आप पाएंगे कि 4 राशियों के लोग 4 साल तक शनि ढैया से पूरी तरह मुक्त रहेंगे। कौन सी हैं वो राशियां।

शनि इस समय मकर राशि में प्रवेश कर रहा है। इस समय शनि का शनि धनु, मकर और कुंभ राशि में चल रहा है, जबकि शनि की ढैया मिथुन और तुला राशि के लिए चल रही है। शनि अगले साल 29 अप्रैल 2022 से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। यह ज्योतिष के अनुसार जाना जाता है।

जिससे धनु राशि में स्थित शनि शनि के प्रभाव से मुक्त हो जाएगा और मीन राशि के लोग इसकी चपेट में आ जाएंगे। वहीं मीन, मकर और कुम्भ राशि के जातकों का शनि में रहेगा। शनि ढैया की बात करें तो साल 2022 में इसका प्रभाव कर्क और वृश्चिक राशि के जातकों पर पड़ेगा। यह ज्योतिष के अनुसार भी जाना जाता है।

इन राशियों पर शनि का प्रभाव: केवल 2022 में, 12 जुलाई को शनि एक बार फिर मकर राशि में प्रवेश करेगा। जिससे उस राशि के लोग जो शनि ढैया से मुक्त हो गए थे, वे एक बार फिर इसकी चपेट में आ जाएंगे। 17 जनवरी 2023 को शनि गोचर कर कुम्भ राशि में लौट आएंगे।

ज्योतिष के अनुसार वर्ष 2022 में शनि 8 राशियों को प्रभावित करेगा। वर्ष 2023 और 2024 में शनि की राशि में कोई परिवर्तन नहीं होगा।

यह भाग्यशाली राशि मेष, वृष, सिंह और कन्या राशि पर होगी। यानी इन 4 सालों में शनि इन राशियों को किसी भी तरह से प्रभावित नहीं करेगा। तो वे पूरी तरह से शनि की दृष्टि से ओझल हो जाएंगे ताकि किसी प्रकार के नुकसान की कोई संभावना न रहे।

From Around the web