मीरजापुर में भारत बंद का आह्वान बेअसर, दुकानदारों ने नहीं दिया साथ

 
Bharat Bandh call in Mirzapur ineffective shopkeepers did not cooperate

 बाजार बंद कराने के लिए कहीं नहीं की गई जोर-जबरदस्ती

मीरजापुर, 27 सितम्बर संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से भारत बंद के आह्वान का शहर से लेकर गांव तक की बाजारोें में कोई असर नहीं दिखा। भारत बंद को कांग्रेसियों ने भी समर्थन दिया, लेकिन कोई दुकानदार भारत बंद का साथ नहीं दिया। उनका कहना था कि पहले से ही कोरोना के चलते बंदी की मार झेल चुके हैं।

परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। ऐसे में अगर दुकान बंद कर दिया जाए तो उनका परिवार सड़क पर आ जाएगा। भारत बंद को सफल बनाने के लिए कहीं भी कोई जोर-जबरदस्ती नहीं की गई। हालांकि किसान संगठनों ने पहले ही बंद को सफल बनाने की रणनीति शुरू कर दी थी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने दो दिन पहले ही बैठक कर भारत बंद को सफल बनाने के लिए मंथन कर लिया था, लेकिन यह भी कहा था कि किसी के साथ जोर जबरदस्ती नहीं की जाएगी। संगठन ने तीनों कृषि कानून को वापस लेने, एमएसपी की कानूनी गारंटी करने, निजीकरण पर रोक लगाने की मांग की है।

भारतीय किसान सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामराज सिंह ने कहा कि एक साल से किसान बिल के खिलाफ आंदोलनरत हैं। अगर इस किसान विरोधी काले कानून को वापस नहीं लिया जाता है तो आंदोलन आगे भी जारी रहेगा। भारतीय किसान यूनियन के भारत बंद के मद्देनजर बाइपास त्रिमोहानी नरायनपुर पर भारी पुलिस बल, पीएससी व फायर

ब्रिगेड तैनात है।

Bharat Bandh call in Mirzapur ineffective shopkeepers did not cooperate

From Around the web