उत्तर प्रदेश में 1.64 लाख हेक्टेयर में होती है जौ की खेती : डॉ पी के गुप्ता

जौ एक ऐसी फसल है जिसे कम लागत तथा कम मेहनत कम पानी, कम उपजाऊ भूमि/उसर भूमि भी आसानी से उगाया जा सकता है। अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां
 
Barley is cultivated in 1 lakh hectares in Uttar Pradesh Dr PK Gupta
जौ एक ऐसी फसल है जिसे कम लागत तथा कम मेहनत कम पानी, कम उपजाऊ भूमि/उसर भूमि भी आसानी से उगाया जा सकता है। अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां पर 1.64 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल पर जौ की खेती की जाती है। जिसकी उत्पादकता 29.56 कुंतल प्रति हेक्टेयर तथा उत्पादन 4.84 लाख मैट्रिक टन है। यह बातें रविवार को सीएसए के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. पीके गुप्ता ने कही।

Barley is cultivated in 1 lakh hectares in Uttar Pradesh Dr PK Gupta


चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के जौ अभिजनक डॉक्टर पीके गुप्ता ने बताया कि जौ अनाज नहीं बल्कि औषधि है। जौ में 10 से 12 प्रतिशत प्रोटीन, 02 से 03 प्रतिशत वसा तथा 70 से 72 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। इसके अतिरिक्त जौ में 03 से 05 प्रतिशत तक घुलनशील रेशा (बीटा ग्लूकान) पाया जाता है। जो कि रक्त के कोलेस्ट्रॉल एवं शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होता है। उन्होंने बताया कि भारत में जौ के उत्पादन का 20 से 25 प्रतिशत भाग माल्ट बनाने तथा शेष जानवरों के खाने, सत्तू,सूजी,आटा, शिशु आहार एवं शक्ति वर्धक पेय आदि में प्रयोग होता है।

From Around the web