मध्य प्रदेश में इस माह की बारिश ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड

मध्य प्रदेश में हो रही बारिश ने इस माह सितंबर में अपने पिछले 10 साल तक के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। राजधानी भोपाल के केरवा डैम में फुल टैंक लेवल
 
This month rain broke the record of 10 years in Madhya Pra

मध्य प्रदेश में हो रही बारिश ने इस माह सितंबर में अपने पिछले 10 साल तक के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। राजधानी भोपाल के केरवा डैम में फुल टैंक लेवल 1673 फीट आने के बाद शुक्रवार दोपहर इसके गेट खोले गए। प्रदेश में 16 दिनों में ही 5.5 इंच पानी गिर चुका है। मौसम विभाग ने भारी बारिश के चलते निचले इलाकों और क्षेत्रों में जलभराव की संभावना भी जताई है।

This month rain broke the record of 10 years in Madhya Pra

मौसम वैज्ञानिक पीके साहा के अनुसार पूर्व मध्यप्रदेश एक लो प्रेशर क्षेत्र बना हुआ है। यह वर्तमान में सागर, टीकमगढ़ और अशोक नगर में दिख रहा है। इसके प्रभाव से ही बुंदेलखंड़, ग्वालियर चंबल और भोपाल संभागों में बारिश हो रही है। भोपाल में बारिश का कोटा सामान्य से अधिक हो गया है। इंदौर समेत बड़वानी, उमिरया, मंडला, हरदा, सतना और नरसिंहपुर जिले पहले से बेहतर स्थिति में आ गए हैं।

मौसम विभाग ने दतिया, भिंड, मुरैना में भारी से अति भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। सागर, रीवा, जबलपुर, शहडोल, भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, ग्वालियर और चंबल संभागों के जिलों में अलर्ट जारी किया है। जबलपुर समेत 10 जिलों में जरूर कम पानी गिरा है, जिसके कारण से अभी कहा जा रहा है कि प्रदेश में एक जून से अब तक सामान्य से तीन प्रतिशत कम बारिश हुई है।

मौसम विभाग के अनुसार आज 17 सितंबर से बने तीसरे सिस्टम से इन जिलों में भी अच्छी बारिश होगी और प्रदेश सामान्य से अधिक बारिश तक पहुंच जाने की संभावना है।

From Around the web