खादी वस्त्रों के धागों में भरे पड़े हैं राष्ट्रपिता के विचार

 
The thoughts of the Father of the Nation are filled in the threads of Khadi clothes

नवादा, 02 अक्टूबर  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 152 वी जयंती के अवसर पर शनिवार को नवादा के खादी भंडार परिसर में खादी वस्त्रों का प्रदर्शनी का आयोजन किया गया ।जिसका उद्घाटन केंद्रीय सहकारिता बैंक के चेयरमैन रंजीत कुमार उर्फ मुन्ना ने किया।

समारोह की अध्यक्षता भारत सेवक समाज के जिला अध्यक्ष अरुण कुमार ने की ।राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई ।सहकारिता बैंक के चेयरमैन रणजीत कुमार ने कहा कि खादी वस्त्र आज भी सादगी का प्रतीक है ।

जिसके रग - रग में गांधी जी के विचार भरे पड़े हैं ।आज समाज में कुरीतियां इसलिए फैल रही है की खादी वस्त्र पहनने की परंपरा खत्म हो रही है । निश्चित तौर पर जब किसी शरीर का आवरण सादगी भरा होगा तो निश्चित तौर पर उनके विचार भी बेहतर होंगे ।

उन्होंने आम नागरिकों से खादी वस्त्रों को धारण करने की भी बात कही है ।अध्यक्षता कर रहे अरुण कुमार ने कहा कि आज तक जितने महापुरुष हुए हैं सभी ने खादी वस्त्रों के परंपरा का निर्वहन किया ।

उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके विचारों को अनुकरण करने की भी सलाह दी है ।मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित कांग्रेस पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष बंगाली पासवान ने कहा है कि

आज भी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने की जरूरत है ।समाजवादी नेता इंजीनियर कृष्ण बल्लभ यादव ने खादी वस्त्रों के प्रचार प्रसार के लिए व्यापक कार्यक्रम बनाने के लिए बात कही ।

मौके पर जिला खादी ग्राम समिति के अध्यक्ष जयनारायण प्रसाद तथा मंत्री अशोक कुमार ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए खादी वस्त्रों को समाज के हर वर्ग में पहुंचाने का संकल्प दोहराया ।इस अवसर पर एजाज अली मुन्ना सहित कई प्रमुख लोग उपस्थित थे।

From Around the web