मंदसौर: नहीं थम रहा डेंगू का कहर, एक हजार पर पहुंचा मरीजों का आंकड़ा

 
The havoc of dengue did not stop the figure reached one

मंदसौर, 20 सितम्बर। शहर में फैली गंदगी और नपा की लापरवाहीं के कारण मंदसौर में डेंगू के हालात विकराल होते जा रहे हैं। नगर सहित जिले में रोजाना डेंगू के मरीज सामने आ रहे हैं। सरकारी आंकड़ा एक हजार को क्रास कर चुका है वहीं निजी पैथालॉजी की जांच में इससे कई ज्यादा पॉजीटिव हैं। लेकिन अधिकारिक तौर पर ही मंदसौर में डेंगू पॉजीटिव की संख्या 1हजार पर पहुंच गई है। अकेले मंदसौर में 33 इलाके डेंगू हॉटस्पाट बने हुए हैं।

The havoc of dengue did not stop the figure reached one

मंदसौर में चाहे जितनी बातें की जाएं, लेकिन असल हकीकत यह है कि सांसद द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद भी नगर पालिका अपनी जिम्मेदारी ईमानदारी से निभाने को तैयार नहीं है। मंदसौर में कई इलाके ऐसे हैं जहां गंदगी के ढेर हैं। नालियां साफ नहीं हो रहीं हैं। केवल ऊपरी तौर पर दवा का छिड़काव किया जा रहा है, धुआं किया जा रहा है। लेकिन केवल इससे डेंगू के मच्छर खत्म नहीं हो रहे बल्कि गंदगी और उसमें भरे पानी के कारण डेंगू के मच्छर लगातार पनप रहे हैं। बावजूद इसके इन्हें साफ करने के लिए नगर पालिका गंभीर दिखाई नहीं दे रही है। इसी के चलते बीमारों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही हैं। डेंगू और मौसमी बीमारियों के कारण अकेले जिला अस्पताल की ओपीडी में एक हजार के करीब मरीज हर दिन पहुंच रहे हैं। इसमें से सौ के करीब तो डेंगू के मरीज आ रहे हैं । मंदसौर में अभी तक 820 पॉजीटिव मिल चुके हैं। 698 अभी तक ठीक हो चुके हैं लेकिन 122 अभी भी बीमार हैं, जिनका उपचार चल रहा है। शनिवार तक मंदसौर में 32 हॉटस्पाट थे, रविवार को इसमें इजाफा हुआ और अब मंदसौर में 33 हॉटस्पॉट घोषित हो चुके हैं। नपा और स्वास्थ्य विभाग की सर्वे टीम भी लगातार घर - घर जाकर लार्वा नष्ट करवा रही है लेकिन अभी भी यह नाकाफी साबित हो रहे हैं।

 

अब मौतें भी होने लगीं

अब कोरोना की तरह डेंगू मौत का कारण बनता जा रहा है। एक दिन पहले नगरपालिका के कर्मचारी की मौत के बाद दूसरी मौत ग्राम धलपट में हो गई। सुवासरा तहसील के ग्राम धलपट के चौदह वर्षीय रेहान ने कोटा में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। आठ दिन पहले रेहान की तबीयत बिगड़ी थी। इसके बाद उसे गरोठ ले जाया गया। जहां डेंगू की पुष्टि हुई। इसके बाद भवानी मंडी से कोटा रेफर किया गया। जहां रेहान दो दिन तक मौत से लड़ता रहा। इसके बाद उसकी मौत हो गई। इधर दो दिन पहले ही मंदसौर में एक नपाकर्मी की मौत डेंगू से हुई थी। लेकिन अभी भी जिम्मेदार और स्वास्थ्य सेवाएं चरमराई हुई हैं।

From Around the web