टैक्स बार एसोसिएशन गुवाहाटी ने नई आयकर पोर्टल प्रणाली को दी चुनौती

टैक्स बार एसोसिएशन, गुवाहाटी ने गौहाटी उच्च न्यायालय के समक्ष दायर रिट याचिका में प्रतिवादी अधिकारियों से नई आयकर पोर्टल प्रणाली (आयकर पोर्टल 2.0) के काम
 
Tax Bar Association Guwahati challenges the new income tax p

टैक्स बार एसोसिएशन, गुवाहाटी ने गौहाटी उच्च न्यायालय के समक्ष दायर रिट याचिका में प्रतिवादी अधिकारियों से नई आयकर पोर्टल प्रणाली (आयकर पोर्टल 2.0) के काम न करने के कारण पुराने आयकर पोर्टल को तुरंत बहाल करने का निर्देश देने की मांग की है। सच्चे करदाता जो देय करों का भुगतान करने और रिटर्न जमा करने में रुचि रखते हैं, वे करों का भुगतान करने और रिटर्न और अन्य फॉर्म जमा करने में सक्षम नहीं हो रहे हैं। उक्त रिट याचिका पर सोमवार को गौहाटी उच्च न्यायालय के समक्ष न्यायमूर्ति एएम बुजरबरुवा की पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए आयी।

Tax Bar Association Guwahati challenges the new income tax p

टैक्स बार एसोसिएशन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ. अशोक सराफ ने मामले की पैरवी की तथा न्यायालय के समक्ष यह निवेदित किया कि करदाता और अन्य पेशेवर गलत नियोजित आयकर पोर्टल प्रणाली के शिकार हो गए हैं, जिसे उचित परीक्षण के बिना लॉन्च किया गया था। केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा यह तथ्य स्वीकार किया गया है कि पोर्टल प्रणाली में तकनीकी गड़बड़ी है और उक्त पोर्टल प्रणाली काम नहीं कर रही है।

डॉ. सराफ ने अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया कि समय-समय पर पोर्टल प्रणाली में उक्त तकनीकी गड़बड़ियों के कारण अंतिम तिथि बढ़ा दी गई है और निर्धारण वर्ष 2021-22 के लिए आयकर रिटर्न और लेखा परीक्षा की विभिन्न रिपोर्टें को दाखिल करने की समय सीमा के संबंध में अंतिम विस्तार अधिसूचना गत 09 सितम्बर के तहत बढ़ा दिया गया है। उन्होंने अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया कि तारीखों के इस तरह के विस्तार से करदाता के कर का भुगतान करने और अपनी इच्छा के दिन रिटर्न जमा करने का अधिकार नहीं छीना जा सकता है और किसी को करों का भुगतान करने और दोषपूर्ण पोर्टल प्रणाली जो गड़बड़ियों से भरा हुआ है, पर रिटर्न जमा करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है।

From Around the web