एक्टिविस्ट की संदिग्ध मौत, जिसने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाई और पीएम मोदी को अपना भाई माना

पाकिस्तानी सरकार, पाकिस्तानी सेना और उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI के ख़िलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर आवाज़ उठाने वाली बलूचिस्तान की कार्यकर्ता करीमा बलूच की कनाडा में संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई है। करीमा रविवार को लापता हो गई थी और उसकी तलाश की जा रही थी। करीना का शव टोरंटो में मिला था। करीमा की
 
एक्टिविस्ट की संदिग्ध मौत, जिसने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाई और पीएम मोदी को अपना भाई माना

पाकिस्तानी सरकार, पाकिस्तानी सेना और उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI के ख़िलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर आवाज़ उठाने वाली बलूचिस्तान की कार्यकर्ता करीमा बलूच की कनाडा में संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई है। करीमा रविवार को लापता हो गई थी और उसकी तलाश की जा रही थी। करीना का शव टोरंटो में मिला था। करीमा की मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन अनुमान लगाया जा रहा है कि इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ था।

करीमा ने भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को अपना भाई माना और 2016 में उन्होंने रक्षाबंधन के लिए प्रधानमंत्री को राख भी भेजी। करीमा बलूच, जो रविवार की शाम से लापता है, को पुलिस द्वारा वांछित किया गया था। उन्हें आखिरी बार दोपहर तीन बजे देखा गया था। फिर उसे एक अजनबी के साथ घूमते देखा गया। करीमा के परिवार ने पुष्टि की है कि उसका शव मिला है। वह पाकिस्तानी सेना द्वारा प्रताड़ित किए जाने के बाद 2016 में पाकिस्तान भाग गई थी। करिमा ने संयुक्त राष्ट्र में बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सेना द्वारा किए गए अत्याचारों के खिलाफ भी आवाज उठाई।

From Around the web