शहीद भगत सिंह की 114वीं जयंती पर समाजसेवी अरुण शर्मा ने श्रद्धांजलि अर्पित की

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी शहीद भगत सिंह की 114वीं जयंती पर लखनपुर मुंसिपल कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एवं समाजसेवी अरुण शर्मा रंजू ने कठुआ जिला सचिवालय के समीप भ
 
Social worker Arun Sharma pays tribute on the 114th birth anniversary of Shaheed Bhagat Singh, appeals to follow in the footsteps of the great hero
भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी शहीद भगत सिंह की 114वीं जयंती पर लखनपुर मुंसिपल कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एवं समाजसेवी अरुण शर्मा रंजू ने कठुआ जिला सचिवालय के समीप भगत सिंह पार्क में स्थित भगत सिंह की प्रतिमा पर फूल माला चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के क्रांतिदूत अमर शहीद भगत सिंह कि आज 114वी जयंती है, देश के इंकलाबी क्रांतिकारी भगत सिंह की जयंती पर सोशल मीडिया पर हर कोई अपनी ओर से भगत सिंह को सलाम कर रहा है, इसी बीच देश के कई दिग्गजों ने भी भगत सिंह को श्रद्धांजलि दी।

Social worker Arun Sharma pays tribute on the 114th birth anniversary of Shaheed Bhagat Singh, appeals to follow in the footsteps of the great hero

वहीं लखनपुर मुंसिपल कमेटी के पूर्व अध्यक्ष व समाजसेवी अरुण शर्मा अपनी पत्नी और दर्जनों युवा समर्थकों के साथ कठुआ जिला सचिवालय के समीप शहीद भगत सिंह पार्क में ढोल नगाड़ों के साथ श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे। शर्मा और उनके समर्थक, शहीद भगत सिंह अमर रहें, हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए पैदल मार्च करते हुए पार्क में पहुंचे। समाजसेवी अरुण शर्मा और उनकी धर्मपत्नी पूनम शर्मा ने शहीद भगत सिंह पार्क में भगत सिंह की प्रतिमा पर फूल माला चढ़ाई और उन्हें नमन किया। उसके बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए समाजसेवी अरुण शर्मा ने शहीद भगत सिंह की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मां भारती को परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त कराने हेतु स्वयं की आहुति देने वाले अमर बलिदानी युवा शक्ति के द्योतक, राष्ट्रीय नायक भगत सिंह की जयंती पर उन्हें श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं और स्वतंत्र भारत आप के बलिदान का सदैव ऋणी रहेगा।



शर्मा ने कहा कि शहीद भगत सिंह अपने प्रखर विचारों और देश प्रेम की भावना से प्रत्येक देशवासी के हृदय में नई अग्नि प्रज्वलित कर देने वाले वीर सपूत थे और अपने ओजस्वी विचारों एवं कार्याे से हमारे दिलों में युगो युगो तक जिंदा रहेंगे। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के लिए अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले महान क्रांतिकारी महज 23 वर्ष की उम्र में ही शहीद हो गए थे, भारत को आजादी दिलाने में भगतसिंह ने अहम योगदान निभाया और अंग्रेजों से जमकर टक्कर ली थी। उनके इस जुनून को देखकर ब्रिटिश साम्राज्य भी हिल गया था वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के उल्लेखनीय नायकों में से एक थे।

शर्मा ने कहा कि वह सुबह 4 बजे शहीद भगत सिंह पार्क में बने उनकी प्रतिमा के पास पहुंचे तो उन्होंने देखा कि महान नायक की जयंती के उपलक्ष पर हजारों युवा, महिलाएं उनकी प्रतिमा के पास खड़े होकर उन्हें तहे दिल से नमन कर रहे थे, जिसे देख कर उनका दिल प्रसन्न हो गया। उन्होंने कहा कि इस दृश्य को देखकर उन्हें गर्व हुआ कि वह जिस जिला में उनका जन्म हुआ है वहां के लोगों के दिलों में शहीद भगत सिंह के प्रति आदर है। उन्होंने बताया कि एक बार सुबह उनकी प्रतिमा को नमन करने के बाद दोपहर को फिर उन्हें भावनिक श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए पहुंचा हूं। वहीं उन्होंने कठुआ के युवाओं को अपील की है कि जो युवा बटक चुके हैं वह शहीद भगत सिंह की जीवनी को एक बार जरूर पढ़ें, जिससे वह अपने भविष्य की प्रेरणा ले सकते हैं। उन्होंने युवाओं को भगत सिंह जैसे महान नायक के नक्शे कदम पर चलने के लिए अपील की।

From Around the web