गोविवि में महंथ गंभीरनाथ के नाम पर स्थापित होगा शोधपीठ : धर्मेंद्र प्रधान

 
Research bench will be established in gaurakhpur

गोरखपुर, 23 सितम्बर। केन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गोरखपुर में कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में महंत बाबा गंभीरनाथ के नाम पर एक चेयर (शोध पीठ) की स्थापना होगी।

उन्होंने महंत दिग्विजयनाथ की चर्चा करते हुए कहा कि महिलाओं-बालिकाओं को समान शिक्षा अधिकार की दिशा में महंत दिग्विजयनाथ का निरन्तर प्रयास रहा। इस दिशा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2020 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति लाई गयी, नई शिक्षा नीति का आना एक सुखद संदेश है। जब सभी जाति, सभी वर्ग को समान शिक्षा मिलेगी तो विकास को और गति मिलेगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश-केन्द्र सरकार ''सबका साथ सबका विकास, सबका विश्वास'' के भाव से निरन्तर कार्य कर रही है। आजादी के 75 साल पूरा होने पर पूरा देश अमृत महोत्सव मना रहा है। गोरक्षनाथ एक शिक्षा का धाम है जो सदियों से समाज की रक्षा के लिए कार्य कर रहा है। आजादी की लड़ाई में महंत दिग्विजयनाथ की अहम भूमिका रही है।

Research bench will be established in gaurakhpur

मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कोरोना कालखण्ड में भारत के प्रधानमंत्री एवं उप्र के मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में इस बीमारी पर नियंत्रण पाया गया। प्रधानमंत्री के जन्म दिवस पर उप्र में 40 लाख वैक्सीन लगाकर रिकार्ड कायम किया गया। जब केन्द्र की सरकार बनी थी तो उज्जवला योजना आरम्भ की गयी। इसके तहत देश में 8 करोड़ महिलाओं को नि:शुल्क कनेक्शन प्रदान किया गया। जिसमें ढाई करोड़ कनेक्शन उत्तर प्रदेश में दिये गये। शीघ्र ही गैस पाइप लाइन के माध्यम से गोरखपुर में गैस की आपूर्ति की जायेगी, जिससे महिलाओं को गैस सिलेंडर के लिए इन्तजार नहीं करना होगा और यह एलपीजी से सस्ती भी होगी। सरकार गरीबों, वंचितों, पिछड़ों के उत्थान की दिशा में निरन्तर कार्य कर रही है। आने वाले समय में भारत विश्व में अग्रणी देश होगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास की अपनी सकारात्मक सोच होती है, जहां व्यक्ति के मन में सकारात्मक सोच नहीं वहां विकास नहीं। यह संस्थाओं से प्राप्त होता है, पीढ़ी दर पीढ़ी यह क्रम आगे बढ़ता है। गांव हो, गरीब हो, नौजवान हो, महिलाएं हो इन सबके कल्याण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में अनेक जन कल्याणकारी योजनाएं संचालित की है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना ने देश में ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में एक नई क्रान्ति पैदा की। आज प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के दूसरे चरण का कार्य भी प्रारम्भ हो गया है। बिना भेदभाव हर गरीब को योजनाओं से लाभान्वित किया गया। उन्होंने कहा कि भारत के हर जरूरतमंद नागरिक को योजनाओं का लाभ मिलना ही चाहिए यही सबका साथ सबका विकास है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां का खाद कारखाना 1990 में बंद हो गया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मागर्दशर्न में यह अक्टूबर में फिर से चालू होगा। जब एक सकारात्मक सोच और राष्ट्रीय मूल्यों की सरकार सकारात्मक सोच के साथ काम करती है तो यहां का समग्र विकास होता है।

यह आज हम सबको देखने को भी मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत को एक वैश्विक मंच प्रदान किया है। जब हम 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाते हैं तो यह भारत की ऋषि परम्परा के प्रति श्रद्धा व सम्मान का भाव प्रकट करता है।

उन्होंने कहा कि महंत दिग्विजयनाथ जी महाराज आजादी की लड़ाई में इस क्षेत्र के क्रान्तिकारी युवा के रूप में इस आन्दोलन के साथ जुड़े और इसमें बढ-चढ़कर भाग लिया।

इस कार्यक्रम को सांसद रविकिशन, महापौर सीता राम जायसवाल, नगर विधायक डॉ राधा मोहन दास अग्रवाल, विधायक ग्रामीण विपिन सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष साधना सिंह, महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो. यूपी सिंह ने भी सम्बोधित किया।

From Around the web