रायपुर: मानसिक स्वास्थ्य भी महत्वपूर्ण, खुद को पहचाने और परिवार को समय दें: नागरकर

कोरोना के पश्चात् बढ़ते मानसिक तनाव को दूर करने के लिए आम लोगों को जागरूक बनाने के उद्देश्य से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के मनोचिकित्सा विभाग के तत्वावधान
 
Raipur Mental health also important identify yourself and give time to family Nagarkar
कोरोना के पश्चात् बढ़ते मानसिक तनाव को दूर करने के लिए आम लोगों को जागरूक बनाने के उद्देश्य से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के मनोचिकित्सा विभाग के तत्वावधान में निरंतर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसमें लोगों में बढ़ते अवसाद को दूर करने के लिए विशेष रूप से विभिन्न उपाय बताए जा रहे हैं। चिकित्सकों ने आम लोगों का आह्वान किया है कि वे निजी जीवन के साथ व्यावसायिक और अध्यात्मिक भाग में सामंजस्य रखें और अपनी रूचि के विषयों पर भी ध्यान दे। इनमें से किसी भी पक्ष में असमानता होने पर अवसाद का शिकार हो सकते हैं।

Raipur Mental health also important identify yourself and give time to family Nagarkar


निदेशक प्रो. (डॉ.) नितिन एम. नागरकर ने मंगलवार को कहा कि एम्स में मनोरोगियों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। कोरोना के बाद कई प्रकार की मानसिक बीमारियों के रोगी एम्स में पहुंच रहे हैं। ऐसे में दवाइयों और चिकित्सकों की काउंसलिंग के साथ-साथ योग, संगीत और परिवार का साथ भी मनोरोगों को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। उन्होंने इसके लिए सामाजिक स्तर पर पहल करने पर जोर दिया।

विभागाध्यक्ष डॉ. लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि मनोरोग से बचने के लिए जरूरी है कि व्यक्तिगत, शारीरिक, मानसिक, अध्यात्मिक, व्यावसायिक और भावनात्मक पहलुओं में सामंजस्य बना रहे। इसके लिए आवश्यक है कि चिकित्सकों की निगरानी में मनोरोग का इलाज करवाया जाए। खुद को स्वस्थ रखने के लिए स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन, नियमित नींद, व्यायाम, अपनी रूचि के अनुसार ग्रुप ज्वाइन करना, परिवार के साथ गुणवत्तापूर्ण समय गुजारना, दोस्तों के साथ अपनी भावनाएं शेयर करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि जीवन में रोना और हंसना दोनों जरूरी है। कभी-कभी न करना भी जरूर सीख लें। काम पर ज्यादा फोकस रखें मगर अपना भोजन भी समय पर लें। कॉलेज ऑफ नर्सिंग की प्राचार्या डॉ. बीनू मैथ्यू ने मानसिक रोगों के विभिन्न प्रकारों, कारणों और इससे बचाव तथा उपचार की प्रक्रिया के संबंध में जानकारी दी।

इस अवसर पर सप्ताह भर विभिन्न रचनात्मक क्रियाकलाप चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ एवं छात्रों द्वारा किए गए जिसमें ई पोस्टर प्रतियोगिता, आत्महत्या रोकने के लिए सिक्योरिटी और गेटकीपर्स को प्रशिक्षण, मानसिक स्वास्थ्य पर छात्रों का नुक्कड़ नाटक, मनोरोग ओपीडी में मनोरोगियों और उनके परिवार वालों के लिए विशेष सत्र, स्कूली छात्रों के लिए ऑनलाइन सत्र, संजीवनी वृद्धाश्रम अवंति विहार, रायपुर में मेंटल हेल्थ और योग सत्र आयोजित किए गए।
 

From Around the web