त्योहार से पहले रेलवे ने यात्रियों को दिया एक बड़ा उपहार, 20 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच 392 ट्रेनें चलेंगी

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने नवरात्र, दिवाली और छठ पूजा त्योहारों के बाद यात्रियों को बड़ा तोहफा दिया है। भारतीय रेलवे ने 20 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच 196 जोड़े या 392 ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया है। या कम से कम 55 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन का
 
त्योहार से पहले रेलवे ने यात्रियों को दिया एक बड़ा उपहार, 20 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच 392 ट्रेनें चलेंगी

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने नवरात्र, दिवाली और छठ पूजा त्योहारों के बाद यात्रियों को बड़ा तोहफा दिया है। भारतीय रेलवे ने 20 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच 196 जोड़े या 392 ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया है। या कम से कम 55 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन का किराया सामान्य स्पेशल ट्रेनों की तुलना में 30 फीसदी अधिक होगा। यह नियम 2015 के वाणिज्यिक परिपत्र संख्या 30 के अनुसार लागू किया जा रहा है।

भारतीय रेलवे के जोनल विभाग ने अधिकतम 3 एसी कोच वाली ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया है। कोरोना अवधि के दौरान ट्रेन के सभी नियम और शर्तें इस ट्रेन पर भी लागू होंगी। कुछ ट्रेनें दैनिक चलेंगी, कुछ सप्ताह में चार दिन, कुछ सप्ताह में तीन दिन, कुछ ट्रेनें सप्ताह में दो दिन और कुछ ट्रेनें साप्ताहिक रूप से चलेंगी। कुछ ट्रेनें सप्ताह में पांच दिन भी चलेंगी।

टिकट आरक्षण में भी बदलाव

भारतीय रेलवे ने शनिवार से अपने कुछ नियमों में बड़े बदलाव किए हैं। ट्रेन के प्रस्थान के 5 मिनट पहले तक ट्रेन यात्री अब टिकट बुक कर सकते हैं। इसके अलावा, ट्रेनों में टिकट आरक्षण का दूसरा चार्ट अब ट्रेन स्टेशन से प्रस्थान करने के आधे घंटे पहले जारी किया जाएगा।

कोरोना महामारी के कारण रेलवे ने समय को आधे घंटे से बढ़ाकर 2 घंटे कर दिया था। जिसमें ट्रेन शुरू होने से पहले कोरोना प्रोटोकॉल में कई नियमों और विनियमों का पालन किया जाना था। लेकिन, जैसे-जैसे कोरोना संकट कम होता है। भारतीय रेलवे वहां के यात्रियों को कई रियायतें दे रहा है।

यात्री

खाली बर्थ पर रिजर्वेशन करा सकेंगे और टिकट भी वापस कर सकेंगे। जिस स्टेशन पर करंट बुकिंग काउंटर है, वहां से यात्री टिकट खरीद सकते हैं। यहीं से आपको ई-टिकट मिल सकता है। इससे ऐसे लोगों को मदद मिलेगी जिन्हें आपदा के दौरान अचानक ट्रेन से यात्रा करनी पड़ती है।

From Around the web