अब पोलियो टीमों के सहयोग से ग्रामीण क्षेत्रों में चलेगा 06 दिवसीय कोविड-19 टीकाकरण का विशेष अभियान

 
Now a special campaign of 06-day Kovid19 vaccination will run in rural areas with the help of polio teams

अभियान के तहत दूसरे डोज से वंचित लाभार्थियों के टीकाकरण पर दिया जाएगा विशेष जोर

सीवान ,04 अक्टूबर  जिले में स्वास्थ्य विभाग ने सभी 18 वर्ष एवं इससे अधिक आयु वर्ग के लाभार्थियों को कोविड-19 टीकाकरण से आच्छादित करने के लिए टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया है। लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सरकार द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा तथा महा अभियान चलाया जा रहा है। ताकि सभी लोगों को प्रतिरक्षित किया जा सके। अब नए दिशा निर्देश के अनुसार 4 से 6 अक्टूबर एवं 8, 9 व 11 अक्टूबर को कोविड-19 टीकाकरण का एक विशेष अभियान का आयोजन ग्रामीण क्षेत्रों में करने का निर्णय लिया गया है।

इस विशेष अभियान के सफल संचालन के लिए कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने सीवान के जिलाधिकारी अमित कुमार पाण्डेय एवं सिविल सर्जन डॉ यदुवंश शर्मा को पत्र लिखकर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया है। उपरोक्त तिथि को अभियान का आयोजन पोलियो सुपरवाइजर के क्षेत्र में किया जाना है।

उल्लेखनीय हो कि पोलियो टीम के द्वारा पिछले दिनों पोलियो की खुराक पिलाते समय घर-घर अभियान के तहत कोविड टीका के दूसरे खुराक के लाभार्थियों की पहचान कर ली गयी है। ऐसे सभी लाभार्थियों के घरों की दिवाल पर पोलियो मार्किंग के साथ चकोर निशान लगाया गया है। इस अभियान में पोलियो सुपरवाइजर के प्रत्येक टीम के कार्य क्षेत्र में एक सीबीसी (कोविड-सेशन साइट) लगाया जाना है। जिस क्षेत्र में अधिकतम कोविड टीकाकरण के दूसरे डोज से वंचित की पहचान की गई है। अभियान के आयोजन के लिए सूक्ष्म कार्य योजना तैयार की गई है ताकि अधिक से अधिक संख्या में द्वितीय खुराक के लिए ड्यू लाभार्थियों की प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण सुनिश्चित की जा सके । साथ ही यदि प्रथम खुराक से वंचित छूटे हुए लाभार्थी मिलते हैं तो उनका भी टीकाकरण कराया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक सुपरवाइजर के साथ के लिए संलग्न माइक्रो प्लानिंग करायी गयी है।

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ प्रमोद कुमार पाण्डेय के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार पोलियो टीम के द्वारा बनाए गए ड्यू लाभार्थियों की सूची अभियान के सभी दिनों में उत्प्रेरक (मोबिलाइजर) के पास उपलब्ध कराया जाएगा । सत्र के आयोजन करते हुए प्रति सत्र कम से कम 200 लाभार्थियों को कोविड टीकाकरण से आच्छादित किया जाना सुनिश्चित किए जाने तथा इसके लिए पर्याप्त संख्या में एएनएम/ जीएनएम एवं उनके साथ वेरिफाई की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है।

From Around the web