नवरात्रि महोत्सव : राजेंद्र प्रसाद घाट पर देवी गीतों ने समा बाँधा

महोत्सव में माँ दुर्गा को समर्पित संगीत निशा में राकेश तिवारी के देवी गीतों ने समा बाँध दिया। वहीं, डॉ. जया राय के नृत्य ने खूब तालियां बटोरी। सांस्कृतिक निशा में गायक कलाकार
 
Navratri Festival Goddess songs captivate at Rajendra Prasad Ghat
शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन शुक्रवार शाम राजेन्द्र प्रसाद घाट पर आयोजित नवरात्रि महोत्सव में देवी गीतों के साथ सुरों की त्रिवेणी बही।



महोत्सव में माँ दुर्गा को समर्पित संगीत निशा में राकेश तिवारी के देवी गीतों ने समा बाँध दिया। वहीं, डॉ. जया राय के नृत्य ने खूब तालियां बटोरी। सांस्कृतिक निशा में गायक कलाकार आनंद किशोर मिश्र ने भी देवी गीतों की प्रस्तुति कर गंगा तट पर स्वर गंगा प्रवाहित की। कार्यक्रम के प्रारम्भ में युवा सितार वादक नीरज मिश्र के सितार से निकली झंकार ने सभी को आह्लादित किया। इसके बाद आनंद किशोर मिश्र ने अपने भजनों को गंगा व देवी दुर्गा को समर्पित किया।

इसी क्रम में गायक राकेश तिवारी ने हम भक्तों के भवन बिराजे, पूर्ण हमारे काज करें व जय दुर्गे जगदम्बे भवानी मंगल करणी हरणी दयानी को अपने मुक्त कंठ से गाकर श्रोताओं को झूमने पर विवश कर दिया। सांस्कृतिक संध्या में ही डॉ जया राय के निर्देशन में युवा कथक कलाकारों ने महिषासुर मर्दिनी स्वरूप पर आधारित नृत्य प्रस्तुत किया। बनारस घराने के प्रतिनिधि युवा कलाकार अभिषेक मिश्र एवं शिवांग मिश्र के प्रिय बंधु ने सितार की मनमोहक जुगलबन्दी पेश किया।



पर्यटन विभाग, आश्रय सेवा संस्थान व सुबह ए बनारस के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित नौ दिवसीय नवरात्रि महोत्सव की दूसरी संध्या का उत्तर प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति, धर्मार्थ कार्य एवं प्रोटोकॉल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 नीलकंठ तिवारी व डॉ वीरेंद्र प्रताप सिंह, डॉ रत्नेश वर्मा, दीपक मिश्रा महन्त शंकरपुरी ने दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारम्भ किया।

मंत्री ने इस मौके पर कहा कि महोत्सव से पर्यटकों में वृद्धि के साथ- साथ स्थानीय स्तर पर नवरात्रि महोत्सव का महत्व विख्यात होगा। इस महोत्सव का उद्देश्य जनपद वाराणसी में नवरात्रि के अवसर पर अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करना एवं स्थानीय कलाकारों को मंच प्रदान करना है। जिससे यहां की कला, संस्कृति को बढ़ावा मिले एवं पर्यटन का विकास हो। महोत्सव में विभिन्न क्षेत्रों में अपनी विशिष्ट पहचान स्थापित करने वाली विभूतियों का अंगवस्त्र व स्मृति चिन्ह प्रदान कर मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी ने सम्मानित किया गया। जिसमें हास्य कवि सुदामा तिवारी "सांड़ बनारसी", व्यापारी नेता सुरेश तुलस्यान, वैदिक विद्वान वेंकटरमन घनपाठी, काशी विद्वत परिषद के रामनारायण द्विवेदी, अधिवक्ता राम अवतार पांडेय, शिवदत्त द्विवेदी, डॉ.शिव कुमार जायसवाल, अजय द्विवेदी, डॉ अजय जायसवाल, रवि जायसवाल, डॉ. रेवती साकलकर, डॉ.आकांक्षा सिंह, डॉ. ऋतु गर्ग, डॉ.निशा सिंह, सुश्री सौम्या धरण, पूर्व पार्षद ऊषा तिवारी, स्मिता पाटिल, डॉ.ममता सिंह, रेखा पारिख, अर्चना त्रिवेदी, डॉ पुष्पा जायसवाल, ममता जायसवाल आदि थे। कार्यक्रम का संयोजन सुबह ए बनारस के प्रमोद कुमार मिश्रा, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी कीर्तिमान श्रीवास्तव व व पवन शुक्ला ने किया। संचालन डॉ.प्रीतेश आचार्य ने किया। इस अवसर पर डॉ आलोक श्रीवास्तव, मनोज सिंह काका, साधना वेदांती, नलिन नयन मिश्र आदि उपस्थित थे।

From Around the web