मोदी सरकार ने 78 नए मार्गों के लिए उड़ान योजनाओं को दी मंजूरी

नई दिल्ली: मोदी सरकार (Modi government) ने 78 नए मार्गों के लिए उड़ान (Air Flight) योजनाओं को मंजूरी दी है। लोगों को सस्ती दरों पर इन मार्गों पर हवाई यात्रा करने का अवसर मिलेगा। यह देश की सीमाओं पर रहने वाले लोगों के लिए उड़ान संपर्क प्रदान करेगा, विशेष रूप से पूर्वोत्तर, पहाड़ी क्षेत्रों और
 
मोदी सरकार ने 78 नए मार्गों के लिए उड़ान योजनाओं को दी मंजूरी

नई दिल्ली: मोदी सरकार (Modi government) ने 78 नए मार्गों के लिए उड़ान (Air Flight) योजनाओं को मंजूरी दी है। लोगों को सस्ती दरों पर इन मार्गों पर हवाई यात्रा करने का अवसर मिलेगा। यह देश की सीमाओं पर रहने वाले लोगों के लिए उड़ान संपर्क प्रदान करेगा, विशेष रूप से पूर्वोत्तर, पहाड़ी क्षेत्रों और द्वीपों में। जिन नए मार्गों को मंजूरी दी गई है उनमें गुवाहाटी से तेजू, रुसी, तेजपुर, पासीघाट, मीसा और शिलांग शामिल हैं।

दिल्ली से बरेली, बिलासपुर से भोपाल, कानपुर से मुरादाबाद, अलीगढ़ से चित्रकूट, चित्रकूट से प्रयागराज, श्रावस्ती से कानपुर मार्गों को भी मंजूरी दी गई है। इसके अलावा चंडीगढ़ से हिसार, देहरादून और धर्मशाला के लिए भी मार्ग स्वीकृत किए गए हैं। वाराणसी से चित्रकूट और श्रावस्ती मार्गों को भी मंजूरी दी गई है। एयरलाइंस फ्लाइट 4 के तहत लक्षद्वीप के कई द्वीपों को साफ कर दिया गया है।

उड़ान योजना क्या है

छोटे और मझोले शहरों को हवाई नेटवर्क से जोड़ने के लिए, सरकार ने एक क्षेत्रीय संपर्क योजना शुरू की है जिसका नाम है ‘उड़े देश के नागरिक’ (UDAN)। सरकार इसके तहत आवंटित मार्गों पर उड़ान की 50 प्रतिशत सीटों के लिए अधिकतम किराया निर्धारित करती है। देश के सभी हवाई अड्डों और हेलीपैडों को रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम-आरसीएस ‘उदान’ के तहत जोड़ा जा रहा है।

किराए सस्ते हो गए

इस योजना के तहत, हर साल लगभग 26.5 लाख सीटें उपलब्ध कराई जाएंगी और अधिकतम किराया 2500 रुपये प्रति घंटे की दर से लिया जाएगा। इसका मतलब यह है कि अगर दोनों शहरों के बीच उड़ान की अवधि एक घंटे तक है, तो उनके बीच का किराया केवल 2,500 रुपये होगा। अब उड़ान योजना UDAN 4.0 का चौथा चरण शुरू होने वाला है। इसने 78 नए मार्गों को जोड़ने की मंजूरी दी है। इसके तहत, एयरलाइंस को दूरस्थ और पूर्वोत्तर कश्मीर के लिए भी उड़ान शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। किराए को सस्ता रखने पर भी जोर दिया जा रहा है।

अब तक स्वीकृत मार्ग

अब तक, सरकार ने योजना के तहत 766 मार्गों को मंजूरी दी है। मोदी सरकार ने 2016 में इस योजना की शुरुआत की। सरकार इस वायएबिलिटी गैप फंडिंग (वीजीएफ) के तहत होने वाले नुकसान को कवर करने के लिए एयरलाइंस को अनुदान भी प्रदान करती है। फ्लाइट 4 के तहत सरकार को हर महीने वीजीएफ पर 15 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे।

From Around the web