पालघर वीवीसीएमसी परिवहन बसों की कमी से महंगा हुआ आम यात्रियों का सफर

 
mumbai

मुंबई, 26 सितंबर,। वसई-विरार शहर महानगरपालिका (वीवीसीएमसी) की परिवहन सेवाएं पूरी क्षमता से शुरू नहीं होने से आम नागरिकों को परेशानी हो रही है। ऐसे में लोग अन्य छोटे वाहनों से सफर कर रहे हैं, जिनका किराया बसों की अपेक्षा अधिक है। इन तरह कोरोना काल में आम आदमी को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। इस मामले में महानगरपालिका परिवहन समिति का कहना है कि परिवहन की बसें जल्द ही पूरी क्षमता से चलाईं जाएंगी।

जानकारी के अनुसार पालघर जिले की वसई विरार शहर मनपा की परिवहन सेवा ठेका पद्धति से चलाई जाती है। कोरोना लॉकडाउन के दौरान पिछले साल वीवीसीएमसी की परिवहन सेवा पूरी तरह से बाधित हो गई थी। इस साल जनवरी में महानगरपालिका ने परिवहन सेवा शुरू करने के लिए नया ठेका दिया है। लेकिन नया ठेका दिए जाने के 8 महीने बाद भी यह सेवा सिर्फ 18 रूटों पर ही शुरू हो सकी है। नालासोपारा पश्चिम के गास, निर्मल, रजोड़ी, सतपाला, उमराले-करमाले व अन्य कई मार्गों पर यह सेवाएं बंद हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले मनपा की परिवहन सेवाएं 43 रूटों पर चलाई जाती थीं।

mumbai

इस संबंध में भाजपा नेता राकेश सिंह का कहना है कि मनपा परिवहन विभाग की उदासीनता के चलते ग्रामीण, छात्र, किसान, महिलाएं, आवश्यक सेवा से जुड़े कर्मचारियों और मेहनतकश लोगों को परेशानी के साथ ही नुकसान उठाना पड़ रहा है। यह स्थिति वसई तालुका के कई अन्य हिस्सों में भी देखने को मिल रही है। बस सेवाएं उपलब्ध नहीं होने से नागरिकों को रिक्शा का उपयोग करना पड़ता है। इसके लिए अधिक किराया चुकाना पड़ता है।

इस मामले में महानगरपालिका परिवहन समिति के अध्यक्ष प्रीतेश पाटिल का कहना है कि हम धीरे-धीरे रूट बढ़ा रहे हैं। फिलहाल कुल 18 रूटों पर सेवाएं चल रही हैं। हमने 17 सीएनजी और 2 इलेक्ट्रिक बसों का ऑर्डर दिया है। मनपा परिवहन की बसें जल्द ही पूरी क्षमता से चलाईं जाएंगी।

 

From Around the web