मध्य प्रदेश के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं : उच्च शिक्षा मंत्री

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में बुधवार को मिंटो हॉल में हुए कार्यक्रम "सफलता के मंत्र" में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने अपने संबोधन में कहा कि मध्यप्रदेश के युवाओं ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। प्रदेश के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। हमारी युवा शक्ति देश में परचम लहरा रही है।

 
dearth of talent among the youth of Madhya Pradesh

भोपाल, 13 अक्टूबर । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में बुधवार को मिंटो हॉल में हुए कार्यक्रम "सफलता के मंत्र" में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने अपने संबोधन में कहा कि मध्यप्रदेश के युवाओं ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। प्रदेश के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। हमारी युवा शक्ति देश में परचम लहरा रही है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान विद्यार्थियों के शैक्षणिक विकास और उनको रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए दृढ़-संकल्पित हैं। प्रदेश में अनेक योजनाएँ लागू कर युवाओं को आगे बढ़ने के अवसर उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इसी के परिणामस्वरूप अलीराजपुर, सिंगरौली, गुना, शिवपुरी, सतना सहित प्रदेश के हर क्षेत्र से युवाओं को यूपीएससी की परीक्षा में चयनित होने का अवसर मिला है।

प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा अनुपम राजन ने कहा कि यह हर्ष का विषय है कि गत वर्षों की तुलना में इस वर्ष मध्यप्रदेश से दोगुने से ज्यादा विद्यार्थी यूपीएससी में चयनित हुए हैं। उम्मीद है कि आगे आने वाले दिनों में और अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों को इस कार्यक्रम से प्रेरित होकर सफलता की रणनीति बनाने में मदद मिलेगी। अपर आयुक्त उच्च शिक्षा दीपक सिंह ने आभार व्यक्त किया।

चयनित युवाओं ने बताए सफलता के राज और नए विद्यार्थियों को सुनाए अनुभव

dearth of talent among the youth of Madhya Pradesh
कार्यक्रम में संघ लोक सेवा आयोग में चयनित युवाओं ने अध्ययन के लिए किए गए परिश्रम और सामने आई दिक्कतों के अनुभव भी सुनाए। भोपाल की सुश्री जागृति अवस्थी ने कहा कि उन्होंने सिलेबस को केंद्र में रखा, रिवीजन पर पूरा ध्यान दिया। स्वामी विवेकानंद के कथन से प्रेरणा प्राप्त की। अलीराजपुर की सुश्री राधिका गुप्ता ने कहा कि राष्ट्र सेवा के भाव से वे परीक्षा में सम्मिलित हुईं। आम जनता की सेवा के लिए अलग-अलग मार्ग हो सकते हैं लेकिन लक्ष्य एक ही है जन-सेवा। महिदपुर के ऋषभ रूनवाल ने कहा कि हमें समाधान का पार्ट बनना है। इसके लिए इस सेवा का चयन किया। खरगोन की सुश्री निमिषी त्रिपाठी ने कहा कि कर्म से दूर नहीं रहना है। जीवन में सफलता के लिए प्रेरणा बहुत मददगार होती है।

From Around the web