जगदलपुर : कांग्रेस सत्ता-लोलुपता, भ्रष्ट राजनीतिक चरित्र व बदनीयती के प्रदर्शन में लगी हुई है : केदार कश्यप

 
Jagdalpur Congress is engaged in display of powergluttony corrupt political character and bad intentions Kedar Kashyap
प्रदेश में साम्प्रदायिक तनाव, धर्मांतरण, बढ़ते अपराध, पंडो आदिवासियों मौत, किसान आत्महत्या

जगदलपुर, 08 अक्टूबर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने शुक्रवार को बयान जारी कर कांग्रेस विधायकों द्वारा अपनी ही सरकार के एक मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम के खिलाफ खोले गए मोर्चे को कांग्रेस की दिशाहीनता, सत्ता-लोलुपता, भ्रष्ट राजनीतिक चरित्र और बदनीयती के प्रदर्शन की पराकाष्ठा बताया है। कश्यप ने कहा कि छत्तीसगढ़ को भ्रष्टाचार मुक्त करने के जुमले उछालती कांग्रेस के पौने तीन साल के शासन काल में कदम-कदम पर भ्रष्टाचार के नित-नए खुलासों ने प्रदेश सरकार के तमाम दावों की हवा निकाल दी है, और कांग्रेस की सरकार में मचे घमासान को सतह पर ला दिया है।

प्रदेश साम्प्रदायिक तनाव की आग में झुलस रहा है, धर्मांतरण को लेकर उबल रहा है, बढ़ते अपराधों ने कानून-व्यवस्था चौपट कर दी है, 20 से अधिक पंडो आदिवासी असमय मौत के मुंह में समा गए हैं। किसान आत्महत्या कर रहे हैं और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश को अराजकता के गर्त में जाने के लिए छोड़कर उत्तरप्रदेश में ओछे राजनीतिक हथकंडे आजमा रहे हैं।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री कश्यप ने कहा कि कांग्रेस विधायकों ने अपने मंत्री पर भ्रष्टाचार का खुला आरोप मढ़कर सरकार के भ्रष्ट चरित्र को लेकर भाजपा के कथनों को सच साबित कर दिया है। प्रदेश में चहुंओर सरकार के मंत्री, कांग्रेस के जनप्रतिनिधि बड़े-बड़े अफसरों से लेकर छोटे-छोटे कर्मचारी तक को आपस में मिलाकर खुली लूट मचाए बैठे हैं। कश्यप ने कहा कि भाजपा शुरू से प्रदेश सरकार पर ट्रांसफर-पोस्टिंग के नाम पर तबादलों को एक उद्योग की तरह संचालित करने के लिए निशाना साधती रही है। कश्यप के मुताबिक प्रदेश सरकार का ऐसा कोई महकमा बाकी नहीं रह गया है, जहां सरकार के लोग, जनप्रतिनिधि, नौकरशाह और कर्मचारी भ्रष्टाचार करके लोगों को प्रताड़ित करने पर आमादा न हों।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता कश्यप ने कहा कि कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह समेत दीगर विधायकों ने मंत्री टेकाम पर जो आरोप लगाए हैं, वे तो गंभीर हैं ही, लेकिन साथ ही यह आरोप कांग्रेस और प्रदेश सरकार में मचे घमासान में अपनी कुर्सी बचाने के लिए आजमाए जा रहे दांव-पेंचों का ही एक हिस्सा है। कश्यप ने कहा कि एका-एक दिल्ली से लौटते ही कांग्रेस विधायकों ने अब एक और मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोलकर साबित कर दिया है कि प्रदेश सरकार और कांग्रेस में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है और कांग्रेस बेलगाम बड़बोलों और सत्ता-पिपासुओं का एक अनुशासनहीन, नेतृत्वहीन और विचारहीन लोगों का जमघट होकर रह गई है।

यही विधायक बृहस्पत सिंह हैं जिन्होंने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव पर हत्या कराने का आरोप मढ़ा था। कश्यप के मुताबिक कांग्रेस छत्तीसगढ़ में एक राजनीतिक दल कम और गैंगवार-गिरोह ज़्यादा नजर आ रही है। न प्रदेश सरकार का अपने मंत्रियों-विधायकों पर कोई नियंत्रण है, न कांग्रेस का अपने पदाधिकारियों पर कोई अनुशासन काम कर रहा है।

 

From Around the web