क्या मोदी सरकार सेना की पेंशन सुविधा पर लगा रही है ‘अंकुश’? खड़ा हुआ नया विवाद

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने सेना के नियमों में बदलाव कर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। वास्तव में, इस विवाद का मुख्य कारण रक्षा मंत्रालय के 29 अक्टूबर के पत्र की पृष्ठभूमि में बनाया गया था। यह एक प्रस्ताव है, जिस पर कार्रवाई की गई और 10 नवंबर
 
क्या मोदी सरकार सेना की पेंशन सुविधा पर लगा रही है ‘अंकुश’? खड़ा हुआ नया विवाद

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने सेना के नियमों में बदलाव कर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। वास्तव में, इस विवाद का मुख्य कारण रक्षा मंत्रालय के 29 अक्टूबर के पत्र की पृष्ठभूमि में बनाया गया था। यह एक प्रस्ताव है, जिस पर कार्रवाई की गई और 10 नवंबर तक एक आदेश जारी किया गया। प्रस्तावित आदेश पेंशन और सेवानिवृत्ति की शर्तों में महत्वपूर्ण बदलाव करता है। इस बीच, 20 साल की सैन्य सेवा के बाद, सैन्य कर्मियों को पेंशन के रूप में अंतिम वेतन का 50 प्रतिशत का हकदार था, लेकिन जैसे ही नए प्रस्तावों पर आदेश जारी किया जाता है, किसी भी सैन्य कर्मियों को पेंशन का 50 प्रतिशत आधा मिल सकता है। केवल उन सेना कर्मियों को जिन्होंने 35 वर्षों के लिए भारतीय सेना में सेवा की है, वे पूर्ण सेवानिवृत्ति के हकदार होंगे।

सेवा की नई शर्तें सभी सैन्य कर्मियों पर लागू होंगी, भले ही वे 20 साल पहले सेना में भर्ती हुए हों। सेवानिवृत्ति के इस प्रस्ताव में विशेष उल्लेख किया गया है, जिसके तहत कर्नल तक के सैन्यकर्मी 57 साल बाद, ब्रिगेडियर 58 साल बाद, मेजर जनरल 59 साल बाद सेवानिवृत्त होंगे।

कांग्रेस ने सरकार के आदेश पर जोरदार हमला किया, आरोप लगाया कि राजनीति में सैन्य नाम का इस्तेमाल करने वाली मोदी सरकार सेना के जवानों की जेब लूट रही है। पार्टी के महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार वन रैंक वन पेंशन देने के बजाय वर्तमान पेंशन को आधा कर रही है। उनका मानना ​​है कि इस आदेश से पेंशन सुविधाओं से सेवानिवृत्त होने वाले 90 प्रतिशत सैन्य कर्मियों को राहत मिलेगी।

From Around the web