हाथरस मामला: गवाहों की सुरक्षा के लिए क्या उपाय किए गए हैं? सुप्रीम कोर्ट ने पूछा

हाथरस मामला: सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार को एक दलित लड़की और उसकी मौत के बलात्कार मामले में गवाहों की सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों पर 8 अक्टूबर तक जानकारी देने का निर्देश दिया। शीर्ष अदालत ने उत्तर प्रदेश सरकार को गुरुवार तक हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया। पीड़ित परिवार
 
हाथरस मामला: गवाहों की सुरक्षा के लिए क्या उपाय किए गए हैं? सुप्रीम कोर्ट ने पूछा

हाथरस मामला: सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार को एक दलित लड़की और उसकी मौत के बलात्कार मामले में गवाहों की सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों पर 8 अक्टूबर तक जानकारी देने का निर्देश दिया।

शीर्ष अदालत ने उत्तर प्रदेश सरकार को गुरुवार तक हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया। पीड़ित परिवार के लिए कौन सा वकील नियुक्त किया गया है? कोर्ट ने इस बारे में भी पूछा। मुख्य न्यायाधीश एस. ए. बोबडे, न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी. रामसुब्रमण्यम की पीठ ने इस संबंध में दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए ये निर्देश दिए। अदालत ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सुनवाई की।

सुनवाई के दौरान, उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी मामलों को सीबीआई को सौंपने की इच्छा व्यक्त की। क्योंकि, इस मामले में राजनीति के उद्देश्य से गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं। राज्य सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को बताया कि हाथरस मामले में एक के बाद एक कहानी फैलाई जा रही है। इस पर अंकुश लगाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मामले की सीबीआई जांच अदालत की निगरानी में भी हो सकती है।

मेहता ने कहा, “इस मामले में एक लड़की की मौत हो गई है और किसी को भी इसे सनसनी बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।” इसकी अलग से जांच होनी चाहिए। वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने मामले में चयनित हस्तक्षेपकर्ताओं की ओर से बोलते हुए, अदालत से कहा कि पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान की जानी चाहिए। पीड़ित परिवार ने कहा, “हम मामले की सीबीआई जांच से संतुष्ट नहीं हैं।” उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एक विशेष जांच दल को इस मामले की जांच करनी चाहिए।

From Around the web