दो साल में पहली बार खुले गंभीरी बांध के गेट, बीसलपुर बांध में होगी पानी की आवक

 
Chittaurgarh two gates opened Gambhiri Dam

चित्तौड़गढ़, 20 सितंबर। जिले में गत दो दिन से लगातार बरसात का दौर जारी है। इससे जलाशयों में पानी की आवक हो रही है। सोमवार सुबह से जारी बरसात के कारण चित्तौड़गढ़ जिले की गांगली नदी में आए उफान के कारण मंगलवाड़-निंबाहेड़ा स्टेट हाईवे करीब 5 घंटे बंद रहा। जिला का सबसे बड़ा बांध गंभीरी छलक गया है और शाम को इसके चार छोटे गेट खोलने पड़े। 2019 के बाद पहली बार गंभीरी बांध के गेट के खोले गए थे।

चित्तौड़गढ़ जिले में सावन में मानसून की मेहरबानी नहीं हुई थी लेकिन भादवा माह में बरसात से अधिकांश जलाशयों में पानी की आवक हुई है। चित्तौड़गढ़ जिले का सबसे बड़ा बांध गंभीरी बांध अपनी क्षमता के अनुसार 23 फीट भरने के बाद छलक गया है और सोमवार को एक इंच की चादर भी चल रही है। मध्यप्रदेश में भी बरसात के कारण गंभीरी में पानी की आवक हो रही है। इधर, चित्तौड़गढ़ शहर की पेयजल आपूर्ति करने वाले घोसुण्डा बांध में पानी की आवक नहीं हुई है। वहीं जिले में सोमवार सुबह से काफी बरसात तेज बरसात हो रही थी। पूरे जिले में अच्छी तेज बारिश के चलते जलाशयों में पानी की आवक हुई है। इससे निम्बाहेड़ा-मंगलवाड़ मेगा हाईवे के पास में खोडीप, निन्नाणा, बामनखेड़ी, टाटरमाला, भगवानपुरा, मंडलाचारण, ढोरिया, देवलखेड़ी, उपरेडा, बंबोरी में लगातार 3 घंटे तक मूसलाधार बारिश हुई।

Chittaurgarh two gates opened Gambhiri Dam

इसके कारण गांगली नदी में उफान आ गया। इस साल नदी में दूसरी बार उफान आया है। पुलिया के ऊपर 4 फीट पानी बहने से हाईवे पूरी तरह से बंद हो गया। पानी का वेग भी ज्यादा होने से लोग पुलिया पार नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में मंगलवाड़-निम्बाहेड़ा स्टेट हाइवे पर पांच घण्टे मार्ग बाधित रहा। वाहनों को बदले हुवे रास्ते से भेजा गया। गांगली नदी में उफान के चलते संभावना जताई जा रही है कि घोसुण्डा बांध में भी पानी की आवक होगी। इधर, मध्यप्रदेश व राजस्थान के सीमावर्ती निम्बाहेड़ा क्षेत्र में चल रही भारी बरसात के कारण गंभीरी बांध में पानी की लगातार आवक हो रही है। ऐसे में शाम 6 बजे गंभीरी बांध के चार छोटे गेट खोलने पड़े हैं। अब यह पानी जयपुर सहित प्रमुख शहरों की प्यास बुझाने वाले बीसलपुर बांध में जाएगा।

From Around the web