राजस्थान का बुटाटी धाम : देश ही नहीं बल्कि विदेश से भी आते हैं श्रद्धालु

 
Butati Dham of Rajasthan: Devotees come not only from the country but also from abroad

बीकानेर, 01 अक्टूबर  नागौर जिले के पास अजमेर-नागौर मार्ग पर बसे कस्बे कुचेरा के पास स्थित है बुटाटी धाम जहां देश विदेश से श्रद्धालु दर्शन करने को पहुंचते हैं। बुटाटी धाम 'चतुरदासजी महाराज के मंदिर' के नाम से भी जाना जाता है।

मान्यता है कि काफी वर्षों पूर्व यहां जन्मे एक महान सिद्ध योगी चतुरदासजी वर्षों पहले अपनी चमत्कारिक सिद्धियों से लकवा के रोगियों को मुक्त करते थे। दावा किया गया है कि आज भी देश ही नहीं बल्कि विदेश से भी यहां लकवा से पीडि़त रोगी आते हैं

और सकारात्मक शक्ति लेते हुए ठीक होकर जाते हैं। हाल के वर्षों में ही बुटाटी धाम की चमत्कारिक शक्तियों के बारे सुनकर अमेरिका के शिकागो से यहां आयी जेनिफर भी ठीक होकर गईं हैं। जेनिफर ने यहां 'पॉजिटिव एनर्जी' लेने के बाद बताया था

कि एक दिन वह बाइक से कहीं जा रही थी कि सड़क दुर्घटना में पहले उसे फ्रेक्चर हुआ और बाद में देखते ही देखते वह चल नहीं सकती थीं और लकवाग्रसित हो गयीं। जब उन्हें उसके पुरुष मित्र ने इस चमत्कारी स्थान बुटाटी धाम की खोज-बीन करके बताया तो वह यहां

आने की जिद करने लगी और यहां आने के बाद उसे काफी 'पॉजिटिव एनर्जी' मिली। जेनिफर ने बताया कि उन्हें यहां काफी अच्छा महसूस हुआ और बुटाटी धाम की दिव्य शक्ति के सहारे ही पुन: वह अपने पैरों पर चल सकने में एकबारगी कामयाब हो गयीं।

जेनिफर ने यहां से वापिस अमेरिका जाने से पहले बताया कि वह अमेरिका के लोगों से भी यह बात शेयर करेंगी कि बुटाटी धाम में लकवाग्रसित लोगों को पुन: 'जीवनदान' ही मिलता है। जेनिफर के साथ आए आशुतोष शर्मा ने बताया कि बुटाटी धाम के बारे में उनसे सुनने के बाद से ही

जेनिफर यहां आने की जिद कर रही थी इसलिए उन्हें यहां बुटाटी धाम लाया गया था। शर्मा के अनुसार पीडि़त मानवता की सेवा के लिए यहां हर कोई सेवा के लिए तत्पर रहता है।

भगवान विष्णु के उपासक रहे हैं चतुरदासजी महाराज, बुटाटी धाम है साधना व तपोस्थली : रतनू

राजस्थानी के जाने-माने कवि, साहित्यकार, डिंगल के अध्येता हिंगलाजदान रतनू बताते हैं कि बुटाटी धाम संत श्री चतुरदास जी महाराज की साधना एवं तपोस्थलि रही है, जो देव जाति चारण की कविया खांप में जन्मे थे एवं इसी गांव के निवासी थे।

उन्होंने बताया कि बुटाटी गांव में 4 घर चारणों के हैं। अनंत विभूषित ब्रह्मलीन संत चतुरदास महाराज भगवान विष्णु के उपासक रहे हैं। आज से कई वर्षों पूर्व उन्होंने इसी स्थान पर समाधि ली थी एवं समाधिस्थ हो गये थे। कहा जाता है चारण देव जाति मानी जाती है,

इसमें अनेक दिव्य शक्ति अवतार हुए हैं। उनमें दिव्य शक्तियों के लोक कल्याण के अनुपम कार्य कर जनमानस एवं पीडि़त मानवता के हितार्थ कार्य किये जाते हैं। इन शक्तियों में आदि शक्ति माँ हिंगलाज, आवङ जी महाराज, विश्वविख्यात माँ करणी जी महाराज,

संत ईश्वर दास जी, संत नरहरि दास जी, संत स्वामी कृष्णानंद जी सरस्वती ऐसे सैकड़ों उदाहरण जनमानस के मानस पटल पर हैं जिन्होंने दु:ख की ज्वाला में जलती हुई मानव जाति के लोक कल्याण हितार्थ कार्य किए हैं। उसी श्रृंखला में संत चतुरदास महाराज का अवतार माना जाता है।

लकवा रोग से मुक्त होने के लिए सात दिन का प्रवास करते हुए सप्त परिक्रमा जरुरी : महेंद्र

बुटाटी धाम कमेटी से जुड़े महेंद्र कहते हैं कि लकवा के रोग से मुक्त कराने के लिए बुटाटी धाम का यह मंदिर सप्त परिक्रमा के लिए प्रसिद्ध है। यहां लकवा के मरीजों को सात दिन का प्रवास करते हुए रोज एक परिक्रमा लगानी होती है।

सुबह की आरती के बाद पहली परिक्रमा मंदिर के बाहर तथा शाम की आरती के बाद दूसरी परिक्रमा मंदिर के अन्दर लगानी होती है। ये दोनों परिक्रमा मिलकर पूरी एक परिक्रमा कहलाती है।

सात दिन तक मरीज को इसी प्रकार परिक्रमा लगानी होती है। महेंद्र ने दावा करते हुए कहा कि इस दौरान हवन कुण्ड की भभूति लगाने से धीरे-धीरे बीमारी का प्रभाव कम हो जाता है। शरीर के अंग जो हिलते नहीं है वह धीरे-धीरे काम करने लगते हैं।

Butati Dham of Rajasthan Devotees come not only from the country but also from abroad

From Around the web