ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती को मिला राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार

सैन्य नर्सिंग सेवा की उप महानिदेशक ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती को सर्वोच्च राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया गया है। सैन्य बलों के सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने नर्स प्रशासक के रूप में सैन्य नर्सिंग सेवा
 
Brigadier SV Saraswati received the National Florence Nightingale Award

Brigadier SV Saraswati received the National Florence Nightingale Award



सैन्य नर्सिंग सेवा की उप महानिदेशक ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती को सर्वोच्च राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया गया है। सैन्य बलों के सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने नर्स प्रशासक के रूप में सैन्य नर्सिंग सेवा में उनके अपार योगदान के लिए एक आभासी समारोह में पुरस्कार प्रदान किया। यह राष्ट्रीय पुरस्कार निस्वार्थ सेवा भक्ति और असाधारण व्यावसायिकता के लिए दिया जाता है।

ब्रिगेडियर सरस्वती आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले की रहने वाली हैं और उन्हें 28 दिसंबर, 1983 को सैन्य नर्सिंग सेवा में कमीशन मिला था। उन्होंने सैन्य नर्सिंग सेवा में साढ़े तीन दशक से अधिक समय तक सेवा की है। उन्होंने प्रसिद्ध ऑपरेशन थिएटर नर्स के रूप में 3,000 से अधिक जीवनरक्षक और आपातकालीन सर्जरी में सहायता की है। उन्होंने अपने करियर में ऑपरेशन रूम नर्सिंग प्रशिक्षुओं और सहायक कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया है। ब्रिगेडियर सरस्वती ने कार्डियक सर्जरी के लिए रोगी शिक्षण सामग्री, इम्प्रोवाइज्ड ड्रेप किट और सिवनी पैकिंग तैयार की है।

ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर सैन्य नर्सिंग सेवा का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने सैनिकों के लिए विभिन्न आउटरीच गतिविधियों का संचालन किया है और बुनियादी जीवन समर्थन में हजार से अधिक सैनिकों और परिवारों को प्रशिक्षित किया है। उन्होंने कांगो में विभिन्न अखिल भारतीय सैन्य अस्पतालों और संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक बलों में भी अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। सैन्य नर्सिंग सेवा के उप महानिदेशक पद पर नियुक्ति से पहले उन्होंने विभिन्न प्रशासनिक स्तरों पर कार्य किया है। सैनिकों और उनके परिवारों के लिए नर्सिंग पेशे में उनकी मेधावी और विशिष्ट सेवा के सम्मान में उन्हें 2005 में जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ कमेंडेशन, 2007 में संयुक्त राष्ट्र मेडल (मोनोक) और 2015 में चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कमेंडेशन से सम्मानित किया गया।

From Around the web