नागपुर में दर्जी बन गुजारा कर रहा था बिहार का बड़बोला अपराधी

 
Bihars bigoted criminal was living as a tailor in Nagpur

आपराधिक जमावड़े के चलते पुलिस के हत्थे चढ़ा

नागपुर, 23 सितंबर बिहार के भागलपुर से 2017 में फरार हुआ अपराधी तनवीर आलम मंजूर आलम उर्फ राखा मुहम्मद को नागपुर पुलिस कि आपराध शाखा (क्राइम ब्रांच) ने गिरफ्तार कर बिहार पुलिस के हवाले कर दिया है। राखा 2017 में भागलपुर के तत्कालिन एसएसपी को धमकी दे कर भागा था।

इस बारे में जानकारी साझा करते हुए नागपुर क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि, राखा मुहम्मद के नाम से भागलपुर के आपराधिक जगत में पहचाना जाने वाले इस अपराधी के खिलाफ आधा दर्जन के करीब मामले दर्ज है। इस अपराधी ने 2017 में भागलपुर के तत्कालिन एसएसपी को सोशल मीडिया में चैलेंज किया था कि, “राखा वापिस आ रहा है, पुलिस में दम है तो गिरफ्तार कर के दिखाए।” नतीजतन 2017 में भागलपुर पुलिस ने इसे सरगर्मी से खोजना शुरू किया था। पुलिस द्वारा खोज मुहिम शुरू होने कि वजह से राखा मुहम्मद भागलपुर से फरार हो गया। इसके बाद वह महाराष्ट्र के नागपुर पहुंचा। क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि, बिहार पुलिस के सामने बड़बोला बना यह अपराधी नागपुर के मोमिनपुरा इलाके में दर्जी का काम कर गुजारा कर रहा था।

तनवीर आलम उर्फ राखा मुहम्मद का नागपुर में कोई पुलिस रिकार्ड नही है। स्थानीय मोमिनपुरा इलाके में वह दर्जी का काम कर के गुजारा कर रहा था। लेकिन सितंबर माह में बिहार के कुछ अपराधी राखा से मिलने नागपुर जा पहुंचे। खबरियों ने इस आपराधिक जमावड़े कि गुप्त सूचना क्राइम ब्रांच को दी। जिसके चलते हरकत में आई पुलिस ने राखा को धर दबोचा। प्रारंभिक जांच में पता चला कि, राखा पर भागलपुर में आधा दर्जन आपराधिक मामले दर्ज है। इसके बाद नागपुर पुलिस ने राखा को बिहार पुलिस के हवाले कर दिया।

इस बाबत भागलपुर की वरीष्ठ आरक्षी अधीक्षक (एसएसपी) निताशा गुड़िया से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि राखा मुहम्मद आपराधिक पृष्ठभूमि का वांक्षित अपराधी है जिसकी तालाश भागलपुर पुलिस को कई वर्षों थी। आखिर में उसे नागपुर से गिरफ्तार किया है। उसे आज से शुक्रवार सुबह तक भागलपुर लाया जायेगा।

From Around the web