एयर मार्शल संदीप सिंह ने वायुसेना के डिप्टी चीफ का कार्यभार संभाला

 
Air Marshal Sandeep Singh takes over as Deputy Chief of Air Force
सुखोई विमान को भारतीय वायुसेना में शामिल करने में निभाई थी अहम भूमिका

 दिसंबर, 1983 में एक लड़ाकू पायलट के रूप में वायुसेना में हुए थे शामिल

नई दिल्ली, 01 अक्टूबर  एयर मार्शल संदीप सिंह ने शुक्रवार को वायुसेना के डिप्टी चीफ के रूप में पदभार ग्रहण कर लिया। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र, एयर मार्शल को दिसंबर, 1983 में एक लड़ाकू पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना की उड़ान शाखा में कमीशन किया गया था। वायु अधिकारी एक प्रायोगिक परीक्षण पायलट और एक योग्य उड़ान प्रशिक्षक है। उनके पास विभिन्न प्रकार के लड़ाकू विमानों पर परिचालन और प्रायोगिक परीक्षण उड़ान का समृद्ध और विविध अनुभव है और उन्होंने लगभग 4400 घंटे उड़ान भरी है।

एयर मार्शल संदीप सिंह ने नए वायुसेना प्रमुख बने एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी का स्थान लिया है। संदीप सिंह ने सुखोई विमान को भारतीय वायुसेना में शामिल करने में अहम भूमिका निभाई थी। वायुसेना के नए डिप्टी चीफ एयर मार्शल संदीप सिंह 20 साल की उम्र में 22 दिसंबर, 1983 को फाइटर पायलट के रूप में भारतीय वायु सेना में शामिल हुए थे। उन्हें सुखोई-30 एमकेआई, मिग-29, मिग-21, एएन-32, एवरो, जगुआर और मिराज-2000 फाइटर प्लेन उड़ाने का अनुभव है। स्वॉर्ड ऑफ ऑनर हासिल करने वाले संदीप सिंह ए-2 कैटिगरी के ट्रेनिंग इंस्ट्रक्टर हैं।

एयर मार्शल संदीप सिंह गांधीनगर (गुजरात) में भारतीय वायु सेना के दक्षिण पश्चिम वायु कमान (स्वैक) के एयर ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ की बागडोर संभाल चुके हैं। एयर मार्शल संदीप सिंह एनडीए व एनडीसी के विद्यार्थी रहे हैं। अपने 38 साल के लंबे करियर में उन्होंने एक लड़ाकू विमान स्क्वाड्रन की कमान संभाली है और कई महत्वपूर्ण कमांड और स्टाफ नियुक्तियां की हैं। वह वायु सेना के परीक्षण पायलट स्कूल में प्रशिक्षक और सुखोई-30 एमकेआई के लिए प्रोजेक्ट टेस्ट पायलट थे। एयर मार्शल को अति विशिष्ट सेवा पदक और विशिष्ट सेवा पदक दिया जा चुका है।

संदीप सिंह ने सुखोई विमान को भारतीय वायुसेना में शामिल करने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्हें साल 2013 में वायु सेना मेडल और अति विशिष्ट सेवा पद से सम्मानित किया जा चुका है। एयर मार्शल ने एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम्स टेस्टिंग इस्टैब्लिशमेंट, एक फ्रंटलाइन एयर बेस और एक ऑपरेशनल फाइटर स्क्वाड्रन की कमान संभाली है। उन्होंने वायु सेना के सहायक प्रमुख (योजना), मुख्यालय पूर्वी वायु कमान में वरिष्ठ वायु कर्मचारी अधिकारी और वायु मुख्यालय में वायु सेना के उप प्रमुख की नियुक्तियां की हैं।

From Around the web