200 करोड़ की ठगी का मामला: रोहिणी जेल के नौ अधिकारियों ने की थी सुकेश की मदद

 
Case of cheating of 200 crores Sukesh was helped by nine officers of Rohini Jail

नई दिल्ली, 20 सितंबर रोहिणी जेल में बैठकर 200 करोड़ रुपये की ठगी करने वाले आरोपित सुकेश चंद्रशेखर की मदद जेल अधिकारियों ने की थी। इसके लिए जेलकर्मियों को मोटी रकम मिल रही थी। यह खुलासा तिहाड़ जेल की जांच में हुआ है। इस मामले में छह जेल अधिकारियों को पहले ही निलंबित कर दिया गया था वहीं, अब नौ जेल अधिकारियों के खिलाफ लापरवाही की बात सामने आने के बाद एक्शन लेने के लिए दिल्ली सरकार को पत्र लिखा गया है।

इस मामले में आर्थिक अपराध शाखा द्वारा छह जेल अधिकारियों से पूछताछ हो चुकी है, जबकि दो आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जेल सूत्रों की मानें तो उक्त मामले में पाया गया कि नौ जेल अधिकारी रोहिणी जेल में उसकी मदद कर रहे थे। इनमें रोहिणी जेल का सुपरिटेंडेंट, तीन डिप्टी सुपरिटेंडेंट, दो असिस्टेंट सुपरिटेंडेंट, एक हेड वार्डर और दो वार्डर शामिल हैं। इन पर कार्रवाई करने के लिये तिहाड़ जेल अधिकारियों की तरफ से दिल्ली सरकार को पत्र भेजा गया है। इसमें कहा गया है कि वह किस तरह जेल में बंद सुकेश की मदद कर रहे थे।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2017 में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने ठगी के एक मामले में सुकेश चंद्रशेखर को गिरफ्तार किया था। उस समय से वह तिहाड़ और रोहिणी जेल में मौजूद है। वर्ष 2017 में चुनाव आयोग के नाम पर उसने रुपये लिए थे। यह मामला अभी अदालत में विचाराधीन है। आरोपित ने रोहिणी जेल में बैठकर बीते एक साल में फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर शिवेंद्र सिंह की पत्नी अदिति सिंह से 200 करोड़ रुपये की उगाही की।

शिवेंद्र सिंह को जेल से निकालने की एवज में यह रकम ली गई थी। इस घटना को लेकर आर्थिक अपराध शाखा ने भी मामला दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने आरोपित सुकेश चंद्रशेखर पर मकोका भी लगा रखा है।

इस मामले में सुकेश के पास से एक आईफोन सहित दो मोबाइल फोन बरामद हुए थे। जांच में पुलिस को पता चला कि जेल के अधिकारियों ने ही उसकी मदद की थी। इस मामले में दो जेल अधिकारियों को आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया था।

वहीं, दूसरी तरफ जेल के अधिकारी भी इस मामले में जांच कर रहे थे। जांच के दौरान उन्हें यह पता चला है कि जेल अधिकारियों की मदद से ही सुकेश मोबाइल इस्तेमाल कर रहा था। इतना ही नहीं जांच में यह भी पता चला है कि उसे अतिरिक्त सुविधाएं भी जेल अधिकारियों द्वारा मुहैया कराई जा रही थी। सीसीटीवी से बचने के लिए वह बेडशीट को पर्दे की तरह इस्तेमाल कर रहा था।

वहीं पूछताछ के दौरान सुकेश ने खुलासा किया है कि जेल अधिकारियों की मदद से आईफोन मिला था। उसने यह भी दावा किया है कि वह जेल में सुविधाएं मुहैया कराने के लिए अधिकारियों को मोटी रकम देता था।

Case of cheating of 200 crores Sukesh was helped by nine officers of Rohini Jail

From Around the web