एयर इंडिया: टाटा के स्वामित्व वाली एयर इंडिया, स्टाफ को लेकर बड़ा फैसला, पढ़ें 10 प्वाइंट

केंद्र सरकार ने घाटे में चल रही एयरलाइन एयर इंडिया को टाटा समूह को सौंप दिया है। टाटा समूह ने एयर इंडिया के लिए कुल 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। टाटा समूह ने 68 वर्षों के बाद एयर इंडिया का स्वामित्व हासिल कर लिया है। केंद्र सरकार द्वारा एयर इंडिया के लिए जारी निविदाओं के अनुसार, प्राप्त चार निविदाओं में से, टाटा समूह सबसे अधिक बोली लगाने वाला था, जिसके कारण टाटा समूह द्वारा एयर इंडिया का अधिग्रहण किया गया।

 
Air India Tata owned Air India a big decision regarding staff read 10 points

नई दिल्ली, 9 अक्टूबर 2021. केंद्र सरकार ने घाटे में चल रही एयरलाइन एयर इंडिया को Tata Group को सौंप दिया है। Tata Group  ने एयर इंडिया के लिए कुल 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। Tata Group  ने 68 वर्षों के बाद एयर इंडिया का स्वामित्व हासिल कर लिया है। केंद्र सरकार द्वारा एयर इंडिया के लिए जारी निविदाओं के अनुसार, प्राप्त चार निविदाओं में से, Tata Group सबसे अधिक बोली लगाने वाला था, जिसके कारण Tata Group द्वारा एयर इंडिया का अधिग्रहण किया गया। केंद्र सरकार ने टाटा को मालिकाना हक देने का फैसला किया है। एयर इंडिया के निजीकरण की घोषणा के बाद से ही Tata Group एयर इंडिया का स्वामित्व हासिल करने की कोशिश कर रहा है।

Tata Group की टेल्स प्राइवेट लिमिटेड ने कुल 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन पांडे ने घोषणा की है कि एयर इंडिया को Tata Group को सौंप दिया गया है। लेन-देन में कंपनी ने जो शीर्ष 10 बातें कही हैं, वे यहां दी गई हैं:

1. कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखें

केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को आश्वासन दिया है कि टाटा संस के स्वामित्व के हस्तांतरण के बाद भी कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखा जाएगा।

2. साल भर किसी भी कर्मचारी को नौकरी से नहीं निकालेंगे

एयर इंडिया के टाटा समूह का स्वामित्व संभालने के बाद से किसी भी कर्मचारी को एक वर्ष की अवधि के लिए नहीं निकाला जाएगा। साथ ही एयर इंडिया में मिलने वाली सुविधाएं मिलती रहेंगी।

3. साल के बाद क्या स्थिति होगी

केंद्र और टाटा संस के बीच चर्चा हो चुकी है कि एक साल बाद कर्मचारियों की छंटनी का अधिकार टाटा समूह के पास होगा। केंद्र सरकार ने कहा है कि अगर किसी कर्मचारी को नौकरी से निकाला जाता है तो उसे स्वेच्छा से रिटायर होना पड़ेगा.

४. कर्मचाऱ्यांना मेडिकल क्लेम

दीपम सचिव तुहीन पांडे ने कहा है कि कर्मचारियों की ग्रेच्युटी में कोई बदलाव नहीं होगा. उन्हें सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाली सुविधाओं का भी लाभ मिलता रहेगा।

Tata Sons wins Air India bid Tata Group becomes Air Indias new Maharaja

५. एअर इंडिया डील कर्मचारी

फिलहाल एयर इंडिया में 12,085 कर्मचारी हैं। इसमें 8084 स्थायी कर्मचारी हैं। 4,000 कर्मचारी अनुबंध पर काम कर रहे हैं। एयर इंडिया में इंडिया एक्सप्रेस के 1434 कर्मचारी हैं।

6. टाटा समूह से 18 करोड़ की बोली

Tata Group ने एयर इंडिया के लिए 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। इसमें से एयर इंडिया पर 15,300 करोड़ रुपये का कर्ज है और इसे नकद में चुकाया जाएगा।

7. एयर इंडिया के सभी अधिकार दिए जाएंगे

Tata Group द्वारा एयर इंडिया का अधिग्रहण करने के बाद से हवाई अड्डे पर 4,400 राष्ट्रीय और 1,800 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर लैंडिंग और पार्किंग की अनुमति दी गई है। इसे एयर इंडिया की एविएशन सर्विस एक्सप्रेस का भी नियंत्रण मिलेगा।

8. टाटा समूह एक दूसरे को नहीं बेच पाएगा

दीपम सचिव ने कहा है कि टाटा समूह के पास एयर इंडिया पर Tata Group सहित आठ लोग होंगे और वह किसी भी गैर-भारतीयों को स्वामित्व नहीं बेच पाएगा।

9. दिसंबर तक ट्रांसफर की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी

दीपम के सचिव तुहीन कांता पांडेय ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि एयर इंडिया की तबादला प्रक्रिया दिसंबर तक पूरी कर ली जाएगी.

10. इन कंपनियों ने लगाई थी बोली

स्पाइसजेट के अजय सिंह ने Tata Group के साथ एयर इंडिया के स्वामित्व के लिए बोली लगाई थी। लेकिन Tata Group की ओर से अधिक बोली लगाने के कारण टाटा समूह को स्वामित्व दिया गया है। जैसा कि मंत्रियों ने भी सर्वसम्मति से टाटा को स्वामित्व देने का निर्णय लिया, टाटा को 68 वर्षों के बाद एयर इंडिया का स्वामित्व मिला है।

From Around the web