देश में दो कंपनियां कर रही हैं कोरोना वैक्सीन का इंसानी ट्रायल: ICMR

कोरोना से जूझ रहे देशवासियों के लिए खुशखबरी है। दरअसल, (IMCR)आईसीएमआर ने बताया है कि कोरोना के इलाज के लिए 2 स्वदेशी वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। वैक्सीन की जानवरों पर टॉक्सिसिटी स्टडीज सफल रही है। वहीं, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने मंगलवार को संवाददाता सम्मलेन में बताया कि देश की दो
 
देश में दो कंपनियां कर रही हैं कोरोना वैक्सीन का इंसानी ट्रायल: ICMR

कोरोना से जूझ रहे देशवासियों के लिए खुशखबरी है। दरअसल, (IMCR)आईसीएमआर ने बताया है कि कोरोना के इलाज के लिए 2 स्वदेशी वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। वैक्सीन की जानवरों पर टॉक्सिसिटी स्टडीज सफल रही है। वहीं, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने मंगलवार को संवाददाता सम्मलेन में बताया कि देश की दो दवा कंपनियां कोरोना वैक्सीन का ट्रायल अलग-अलग स्थानों पर एक-एक हजार लोगों के समूहों पर कर रही हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

गौरतलब है कि ड्रग कंट्रोलर जनरल (DGCI) ने पिछले दिनों दिग्गज फार्मा कंपनी जायडस कैडिला और भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) को दवा के मानव परीक्षण की अनुमति दे दी है। बता दें कि इन कंपनियों ने कोविड 19 वैक्सीन के लिए मनुष्यों पर क्लिीनकल ट्रायल के लिए ICMR के साथ भागीदारी की है।

डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि रूस ने वैक्सीन बनाने की प्रक्रिया तेज कर दी है और उसमें प्रगति दिख रही है. चीन भी त्वरित गति से वैक्सीन बनाने में जुटा हुआ है. इसी तरह ब्रिटेन भी वैक्सीन बनाने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है. अमेरिका भी इस संबंध में काम कर रहा है. हम अपनी तरफ से पूरी तेजी से काम कर रहे हैं. इनमें कोई देरी नहीं होनी चाहिए.

महामारी के दौरान दवाओं का कैसे इस्तेमाल किया जा रहा है? इस पर आईसीएमआर के महानिदेशक ने कहा कि हाल ही में, itolizumab को मंजूरी दी गई थी. दवा निर्माताओं को बाजार में इसे बढ़ावा देने की अनुमति नहीं है. आपातकालीन प्राधिकरण को सूचित करने और उसकी रजामंदी पर ही इसकी अनुमति है.

From Around the web