खुशखबरी : यह चीज़ कर सकती है कोरोना के इन्फेक्शन को कम, वैज्ञानिको ने किया दावा

कोरोना कहर के बीच इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मंडी के शोधकर्ताओं ( scientists ) ने एक पराबैंगनी-सी (ultraviolet -C) प्रकाश आधारित पोर्टेबल कीटाणुशोधन बॉक्स विकसित किया है। यह बॉक्स वॉलेट (पर्स), चाबी, चश्मा, बैग, कूरियर पैकेज और पार्सल, प्लास्टिक और कार्डबोर्ड जैसी चीजों को संक्रमण मुक्त बनाकर कोविद -19 फैलाने के जोखिम को कम करेगा।
 
खुशखबरी : यह चीज़ कर सकती है कोरोना के इन्फेक्शन को कम, वैज्ञानिको ने किया दावा

कोरोना कहर के बीच इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मंडी के शोधकर्ताओं ( scientists ) ने एक पराबैंगनी-सी (ultraviolet -C) प्रकाश आधारित पोर्टेबल कीटाणुशोधन बॉक्स विकसित किया है। यह बॉक्स वॉलेट (पर्स), चाबी, चश्मा, बैग, कूरियर पैकेज और पार्सल, प्लास्टिक और कार्डबोर्ड जैसी चीजों को संक्रमण मुक्त बनाकर कोविद -19 फैलाने के जोखिम को कम करेगा।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

शोधकर्ताओं का कहना है कि

कोविद -19 से लड़ने के लिए सबसे महत्वपूर्ण इसके संक्रमण के जोखिम को कम करना है,

क्योंकि यह वायरस 3 दिनों तक ऐसी चीजों की सतहों पर रह सकता है।

इससे स्वस्थ लोगों में संक्रमण का खतरा कम होगा। यह उपयोगी चीजों की सतहों को

कीटाणुरहित करने के लिए एक बेहतर उपकरण साबित हो सकता है।

शोधकर्ताओं की टीम में

डॉ। हिमांशु पाठक, स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के सहायक प्रोफेसर डॉ। सनी ज़फर, स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग के सहायक प्रोफेसर डॉ। हितेश श्रीमाली, स्कूल ऑफ़ कंप्यूटिंग एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के एसोसिएट प्रोफेसर, बेसिक साइंसेज के स्कूल शामिल हैं। एसोसिएट प्रोफेसर डॉ। प्रोसेनजीत मंडल, स्कूल ऑफ बेसिक साइंसेज के सहायक प्रोफेसर डॉ। अमित प्रसाद।

खुशखबरी : यह चीज़ कर सकती है कोरोना के इन्फेक्शन को कम, वैज्ञानिको ने किया दावा

इसके अलावा, बॉक्स को UV-C OPAC कवर फ्रेम के साथ संरचित किया गया है।

इसमें दो-परत एल्यूमीनियम पन्नी कोटिंग के साथ एक लकड़ी के बोर्ड (फर्नीचर ग्रेड) से बना एक क्यूबॉइड कंटेनर है,

जो यूवी-सी प्रकाश को बाहर जाने से रोकेगा।

इसमें रेटेड रेटिंग के दस यूवी-सी लैंप का उपयोग करके किसी वस्तु की सतहों पर यूवी-सी लाइट लगाई जाती है।

दीपक में स्वचालित टाइमर नियंत्रण भी है, ताकि वस्तु के अनुसार यूवी-सी प्रकाश की नियंत्रित मात्रा हो।

डॉ। हिमांशु पाठक और डॉ। सनी ज़फर, स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग, IIT मंडी के सहायक प्रोफेसर, ने उपन्यास कोरोना -19 वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए UV-C प्रकाश की क्षमता को पहचाना। उन्होंने कहा कि हमने जो प्रोटोटाइप विकसित किया है, वह कूरियर पैकेट्स, ट्रैवल बैग्स, करेंसी, पर्स, कलाई घड़ी, मोबाइल फोन, लैपटॉप, किताबें, स्टेशनरी आदि जैसी निर्जीव वस्तुओं में संक्रमण को कम करने में सक्षम है।

From Around the web