यह डाकघर की ये सबसे अच्छी स्कीम जो आपकी बेटी को देगी उसका उज्जवल भविष्य

पोस्ट ऑफिस में कई निवेश योजनाएं हैं जिनका बहुत अधिक लाभ मिल रहा है। डाकघर की बचत योजनाएं बैंकों की तुलना में अधिक ब्याज दर प्रदान करती हैं। यही कारण है कि ज्यादातर लोग अब पोस्ट ऑफिस की योजनाओं में निवेश कर रहे हैं। पोस्ट ऑफिस में कई तरह की निवेश योजनाएं हैं। इन योजनाओं
 
यह डाकघर की ये सबसे अच्छी स्कीम जो आपकी बेटी को देगी उसका उज्जवल भविष्य

पोस्ट ऑफिस में कई निवेश योजनाएं हैं जिनका बहुत अधिक लाभ मिल रहा है। डाकघर की बचत योजनाएं बैंकों की तुलना में अधिक ब्याज दर प्रदान करती हैं। यही कारण है कि ज्यादातर लोग अब पोस्ट ऑफिस की योजनाओं में निवेश कर रहे हैं। पोस्ट ऑफिस में कई तरह की निवेश योजनाएं हैं। इन योजनाओं को विभिन्न लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। पोस्ट ऑफिस में निवेश करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें मनी सिक्योरिटी की पूरी गारंटी होती है।

भारत सरकार डाकघर में जमा धन की संप्रभु गारंटी देता है। यह सुविधा बैंकों में उपलब्ध नहीं है। आज हम आपको एक ऐसी पोस्ट ऑफिस स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें सबसे ज्यादा ब्याज मिलता है, इसमें निवेश करके बेटियों का भविष्य सुरक्षित किया जा सकता है।

इस डाकघर योजना को सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) कहा जाता है। बेटियों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए इस योजना के तहत एक खाता खोला जा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना में, माता-पिता 10 साल तक की लड़की के नाम से खाता खोल सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) खाते में सालाना 6 .6% ब्याज मिल रहा है। यह खाता न्यूनतम रु। 250 के साथ खोला जा सकता है। वित्तीय वर्ष में न्यूनतम जमा राशि 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये है। सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) के तहत बालिकाओं के नाम पर केवल एक खाता खोला जा सकता है। माता-पिता दो बेटियों के नाम से अलग-अलग खाते खोल सकते हैं।

यह खाता तीसरी बेटी के नाम से नहीं खोला जा सकता है, लेकिन जुड़वां बेटी के पैदा होने पर खाता खोलने की सुविधा है। इसके लिए एक मेडिकल सर्टिफिकेट जमा करना होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) में जमा राशि पर आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक की कर कटौती का दावा किया जा सकता है। इसके अलावा, जमा राशि पर ब्याज और परिपक्वता पर प्राप्त धन भी कर मुक्त है।

From Around the web