पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम से दोगुना हो जायेगा पैसा, मिलता है 6.9% ब्याज

हर कोई अपने भविष्य को ध्यान में रखकर आपातकालीन बचत करता है। और ऐसी कई योजनाएं हैं जो आपके बचत कोष पर अच्छा ब्याज और रिटर्न प्रदान करती हैं। जिसके परिणामस्वरूप आपको भविष्य में अपनी सहेजी गई पूंजी पर ब्याज मिलता है, फंड भी बढ़ता है। तो आइए जानते हैं एक ऐसी स्कीम के बारे
 
पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम से दोगुना हो जायेगा पैसा, मिलता है 6.9% ब्याज

हर कोई अपने भविष्य को ध्यान में रखकर आपातकालीन बचत करता है। और ऐसी कई योजनाएं हैं जो आपके बचत कोष पर अच्छा ब्याज और रिटर्न प्रदान करती हैं। जिसके परिणामस्वरूप आपको भविष्य में अपनी सहेजी गई पूंजी पर ब्याज मिलता है, फंड भी बढ़ता है। तो आइए जानते हैं एक ऐसी स्कीम के बारे में जो आपको आपकी पूंजी पर 6.9% ब्याज देती है।

किसान विकास पत्र पर मिल रहा है 6.9% ब्याज

6.9% ब्याज देने वाली योजना का लाभ उठाने के लिए आप डाकघर किसान विकास पत्र यानि KVP में निवेश कर सकते हैं।

किसान विकास पत्र (KVP) डाकघर द्वारा दी जाने वाली छोटी बचत योजनाओं में से एक है। जो निवेशक जोखिम से बचना चाहते हैं, वे इन छोटी बचत योजनाओं में निवेश करके अपना पैसा दोगुना कर सकते हैं। इस स्कीम का दावा है कि इसमें 10 साल 4 महीने (124 महीने) तक निवेश करने से आपका पैसा दोगुना हो जाएगा।

लेकिन जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि यह योजना किसानों के लिए है, फिर भी कोई भी इसमें निवेश कर सकता है। इस योजना के तहत आप केवीपी सर्टिफिकेट खरीदने के लिए कम से कम 1 हजार रुपये का निवेश कर सकते हैं। इसमें केवल एक हजार रुपये के गुणकों में निवेश किया जा सकता है और इसमें निवेश की कोई सीमा नहीं है। यानी आप जितना चाहें उतना पैसा बचा सकते हैं। 50,000 रुपये से ऊपर के किसी भी निवेश के लिए आपको अपने पैन कार्ड की जानकारी देनी होगी।

आप किसान विकास पत्र में कैसे निवेश कर सकते हैं?

KVP में निवेशक की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए। इसमें सिंगल अकाउंट के अलावा ज्वाइंट अकाउंट की भी सुविधा है।

किसान विकास पत्र (केवीपी) बचत योजना वर्तमान में 6.9% ब्याज दे रही है।

निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है। हालांकि, आपका न्यूनतम निवेश 1,000 रु. है ।

निवेशक की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। इसमें सिंगल अकाउंट के अलावा ज्वाइंट अकाउंट की भी सुविधा है।

नाबालिगों को भी योजना में शामिल किया जा सकता है। लेकिन उस खाते को उनके माता-पिता द्वारा संभाला जाना चाहिए।

अगर आप अपना निवेश वापस लेना चाहते हैं तो आपको कम से कम 2.5 साल इंतजार करना होगा। इसमें ढाई साल का लॉक-इन पीरियड होता है।

इसके तहत जमा की गई राशि आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत छूट प्राप्त है।

From Around the web