सुप्रीम कोर्ट ने व्हाट्सएप और फेसबुक को नोटिस जारी किया, सार्वजनिक गोपनीयता महत्वपूर्ण

सुप्रीम कोर्ट ने अपने नोटिस में कहा है कि लोगों की निजता बहुत महत्वपूर्ण है। व्हाट्सएप और फेसबुक यूरोप के लिए अलग मापदंड और भारत के लिए अलग हैं और यह गलत है। सुप्रीम कोर्ट ने दोनों कंपनियों से जवाब मांगा है। व्हाट्सएप के विकल्प के रूप में, भारत ने सैंड्स नामक एक नया ऐप
 
सुप्रीम कोर्ट ने व्हाट्सएप और फेसबुक को नोटिस जारी किया, सार्वजनिक गोपनीयता महत्वपूर्ण

सुप्रीम कोर्ट ने अपने नोटिस में कहा है कि लोगों की निजता बहुत महत्वपूर्ण है।

व्हाट्सएप और फेसबुक यूरोप के लिए अलग मापदंड और भारत के लिए अलग हैं और यह गलत है। सुप्रीम कोर्ट ने दोनों कंपनियों से जवाब मांगा है।

व्हाट्सएप के विकल्प के रूप में, भारत ने सैंड्स नामक एक नया ऐप विकसित करने का निर्णय लिया। इसने व्हाट्सएप को कड़ी टक्कर दी और कंपनी ने अपनी भूमिका बदल दी।

साल 2021 की शुरुआत में व्हाट्सएप ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव किया। हालांकि, इसके बाद, कई लोगों ने मोबाइल से इस ऐप को हटाने का फैसला किया। यह कंपनी को नुकसान पहुंचाने वाला था, इसलिए कंपनी ने स्पष्टीकरण दिया और इसके पक्ष का बचाव करने की कोशिश की। सुप्रीम कोर्ट ने व्हाट्सएप और फेसबुक को नोटिस जारी किया, सार्वजनिक गोपनीयता महत्वपूर्ण

हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने अब व्हाट्सएप और फेसबुक को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने नोटिस में कहा है कि लोगों की निजता बहुत महत्वपूर्ण है।

सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि आप दो या तीन ट्रिलियन की कंपनी हो सकते हैं लेकिन लोगों के मन में एक डर है कि उनका डेटा सुरक्षित नहीं है और इसे बेचा जा रहा है। लोगों की निजता की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है। एक जनहित याचिका में आरोप लगाया गया है कि व्हाट्सएप और फेसबुक की नई गोपनीयता नीतियां लोगों की गोपनीयता और डेटा को लीक करने की धमकी दे रही हैं।

कुछ दिनों पहले व्हाट्सएप और फेसबुक की गोपनीयता नीतियों को लेकर बड़ा हंगामा हुआ था। कई ने इन दोनों ऐप्स को अनइंस्टॉल करने का फैसला किया था; लेकिन फिर इन कंपनियों ने अपनी भूमिका बदल दी और मामला शांत हो गया।

From Around the web