भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज, जो 13 साल की आयु में सुसाईड करना चाहते थे

मजबूरी एक ऐसी चीज है जो लोगों को किसी भी हद तक जाने के लिए मजबूर कर देती है, अगर बात करे क्रिकेट जगत के बारे में तो हमारे भारतीय टीम में भी ऐसे कई खिलाड़ी जिन्हें अपने शुरुआती दौर में गरीबी और मजबूरी का सामना करना पड़ा है और यही गरीबी और मजबूरी लोगों
 
भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज, जो 13 साल की आयु में सुसाईड करना चाहते थे

मजबूरी एक ऐसी चीज है जो लोगों को किसी भी हद तक जाने के लिए मजबूर कर देती है, अगर बात करे क्रिकेट जगत के बारे में तो हमारे भारतीय टीम में भी ऐसे कई खिलाड़ी जिन्हें अपने शुरुआती दौर में गरीबी और मजबूरी का सामना करना पड़ा है और यही गरीबी और मजबूरी लोगों को आत्महत्या करने के लिए मजबूर कर देती है आज हम आपको बताने वाले हैं एक ऐसे भारतीय खिलाड़ी के बारे में जो कभी आत्महत्या करने वाला था।

दिल्ली पुलिस नौकरियां 2019: 649 हेड कांस्टेबल पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें

AIIMS भोपाल में निकली नॉन फैकेल्टी ग्रुप A के लिए भर्तियाँ – अभी देखें 

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

ईस्ट कोस्ट रेलवे में बम्पर भर्ती 2019 : 10वीं, 12वीं और ITI वाले आवेदन करने में देर ना करें -अभी यहाँ देखें 

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज, जो 13 साल की आयु में सुसाईड करना चाहते थे

हम जिस खिलाड़ी के बारे में बात कर रहे हैं उस खिलाड़ी का नाम है कुलदीप यादव। भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज कुलदीप यादव आज जाने-माने गेंदबाजी में से एक है लेकिन एक दिन ऐसा था कि कुलदीप का जो मात्र 13 साल की उम्र में आत्महत्या करना चाहते थे।

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज, जो 13 साल की आयु में सुसाईड करना चाहते थे

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कुलदीप यादव ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए समाचार पत्र हिन्दुस्तान टाइम्स से कहा, “जब मैं 13 साल का था, तो मैं उतर प्रदेश की अंडर-15 टीम में खेलना चाहता था, लेकिन जब मैं ट्रायल में गया, तो मुझे टीम में जगह नहीं दी गई इस बात से मैं काफी निराश हो गया था और सुसाईड करने के बारे में सोचने लगा था।

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर गेंदबाज, जो 13 साल की आयु में सुसाईड करना चाहते थे

कुलदीप यादव ने आगे अपने बयान में कहा, “सच बताऊ तो मैंने अंडर-15 टूर्नामेंट में जगह बनाने के लिए बहुत मेहनत की थी, लेकिन जब मेरा चयन नहीं हुआ, तो मुझे बहुत ज्यादा निराशा हाथ लगी थी और मैं फिर कभी क्रिकेट ना खेलने का मन बना रहा था, लेकिन ऐसे वक्त में मेरे परिवार और दोस्तों ने मेरा बहुत साथ दिया और मुझे फिर से क्रिकेट में मेहनत करने के लिए प्रेरणा दी.

From Around the web