सुशांत पर एनसीपी नेता माजिद मेमन का हमला, ‘मौत के बाद और मोदी-ट्रम्प से ज्यादा फेमस

मुंबई: दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput Case) के मामले पर राजनीतिक राजनीति भी हो रही है। जहां कुछ दलों के नेता सुशांत मामले में सीबीआई जांच का पूरा समर्थन कर रहे हैं। वहीं, शिवसेना समेत कई दलों के नेता सुशांत और उनके परिवार पर कीचड़ उछालने का मौका नहीं छोड़ रहे हैं।
 
सुशांत पर एनसीपी नेता माजिद मेमन का हमला, ‘मौत के बाद और मोदी-ट्रम्प से ज्यादा फेमस

मुंबई: दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput Case) के मामले पर राजनीतिक राजनीति भी हो रही है। जहां कुछ दलों के नेता सुशांत मामले में सीबीआई जांच का पूरा समर्थन कर रहे हैं। वहीं, शिवसेना समेत कई दलों के नेता सुशांत और उनके परिवार पर कीचड़ उछालने का मौका नहीं छोड़ रहे हैं। कुछ दिनों पहले, शिवसेना नेता संजय राउत ने सुशांत के परिवार को लेकर पर बहुत ही भद्दा बयान दिया।

और ये पढ़ें : न्यूज एंकर पर बनी फिल्मों के लिए कौन से एक्टर बेस्ट होंगे? देखें वो नाम…

इस बीच, अब एनसीपी नेता माजिद मेमन (Majeed Memon Tweet) ने दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता की मौत की जांच और मीडिया कवरेज की छानबीन करते हुए कहा कि सुशांत मृत्यु से पहले इतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने कि मृत्यु के बाद बन गए हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

उन्होंने ट्वीट किया और लिखा- “सुशांत अपने जीवनकाल के दौरान उतना प्रसिद्ध नहीं था, जितना कि अपनी मृत्यु के बाद रहा है। जितनी बार उसने मीडिया में जगह बनाई है, वह शायद हमारे पीएम या अमेरिका के राष्ट्रपति से कहीं अधिक है।”

उन्होंने मामले की जांच के मीडिया कवरेज को भी निशाना बनाया। उन्होंने ट्वीट किया – “जब किसी अपराध की जांच चल रही हो, तो गोपनीयता बनाए रखनी होती है। महत्वपूर्ण सबूत जुटाने की प्रक्रिया में हर विकास को सार्वजनिक करना सच्चाई और न्याय के हित पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।” इस ट्वीट पर लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।

Sushant की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार

बता दें कि एनसीपी महाराष्ट्र की महाविकास सरकार का हिस्सा है। महाराष्ट्र सरकार और पुलिस को सुशांत मामले की जांच में लापरवाही के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा फटकार लगाई गई है। ऐसे में उनका ट्वीट आग में ईंधन डालने जैसा काम करता है। वहीं, इन ट्वीट्स के बाद, उन्होंने स्पष्ट किया, “मेरे ट्वीट के प्रशंसक मेरे ट्वीट पर इतना शोर कर रहे हैं। क्या इसका मतलब यह है कि सुशांत अपने जीवनकाल के दौरान लोकप्रिय नहीं थे या उन्हें न्याय नहीं मिलना चाहिए? कोई गलतफहमी नहीं होनी चाहिए। उन्हें बचा जाना चाहिए।” ट्वीट उनका किसी भी तरह से अपमान नहीं करता है। ”

From Around the web