मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज बना रही है चीन से 3 गुना सस्ती PPE किट्स

नई दिल्ली: मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने कोरोनावायरस (Coronavirus) काल में विभिन्न मोर्चों पर योगदान दिया है। अब यह चीन की तुलना में तीन गुना सस्ता और गुणवत्तापूर्ण निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई) बना रहा है। यह किट अंतर्राष्ट्रीय और उत्कृष्ट गुणवत्ता वाली मानी जाती है। कंपनी के सिलवासा संयंत्र में प्रतिदिन 1
 
मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज बना रही है चीन से  3 गुना सस्ती PPE किट्स

नई दिल्ली: मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने कोरोनावायरस (Coronavirus) काल में विभिन्न मोर्चों पर योगदान दिया है। अब यह चीन की तुलना में तीन गुना सस्ता और गुणवत्तापूर्ण निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई) बना रहा है। यह किट अंतर्राष्ट्रीय और उत्कृष्ट गुणवत्ता वाली मानी जाती है।

कंपनी के सिलवासा संयंत्र में प्रतिदिन 1 लाख पीपीई किट (PPE Kits) का निर्माण किया जा रहा है। जहां चीन से आयातित व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरण (पीपीई) 2,000 रुपये प्रति किट से अधिक बैठता है। रिलायंस की इकाई आलोक इंडस्ट्रीज सिर्फ 650 रुपये में पीपीई किट बना रही है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

PPE किट डॉक्टरों, नर्सों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ-साथ पुलिस और स्वच्छता कर्मचारियों जैसे कि कोरोना वायरस संक्रमण से फ्रंट-लाइन कोरोना योद्धाओं की सुरक्षा करता है।

रिलायंस प्रतिदिन एक लाख से अधिक पीपीई किट बनाने के लिए विभिन्न विनिर्माण केंद्रों में लगी हुई है। जामनगर में देश की सबसे बड़ी रिफाइनरी ने पीपीई वस्त्रों के रूप में ऐसे पेट्रोकेमिकल का बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू किया। इस कपड़े का उपयोग करके आलोक इंडस्ट्रीज में पीपीई बनाया जा रहा है।

आलोक इंडस्ट्रीज को हाल ही में रिलायंस ने अधिग्रहण किया था। पीपीई किट बनाने में आलोक इंडस्ट्रीज की सभी सुविधाएं शामिल हैं। आज, आलोक इंडस्ट्रीज में पीपीई बनाने के लिए 10,000 से अधिक लोग शामिल हैं।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने न केवल पीपीई में बल्कि कोरोना टेस्टिंग किट के क्षेत्र में भी स्वदेशी तकनीक विकसित की है। रिलायंस ने काउंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) के साथ पूरी तरह से स्वदेशी RT-LAMP आधारित कोविद -19 परीक्षण किट विकसित की है। यह परीक्षण किट चीनी किट से कई गुना सस्ती है। परीक्षण के परिणाम 45 से 60 मिनट में सटीक कहे जाते हैं।

RT-LAMP टेस्ट किट में एक ट्यूब का उपयोग किया जाता है। इसलिए इसे आसानी से सार्वजनिक स्थानों जैसे एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड में इस्तेमाल किया जा सकता है। इस परीक्षण उपकरण के लिए बुनियादी प्रयोगशालाओं और सरल कौशल की आवश्यकता होती है ताकि इसे मोबाइल वैन / कियोस्क के परीक्षण जैसी जगहों पर उपयोग किया जा सके।

इससे पहले, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने नमूनाकरण के लिए उपयोग किए जाने वाले परीक्षण स्वाब के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। पहले इस टेस्ट स्वैब को चीन से आयात किया जा रहा था। भारत में कीमत 17 रुपये प्रति स्वाब थी। रिलायंस और जॉनसन एंड जॉनसन के सहयोग से विकसित, नए स्वदेशी स्वैब की कीमत चीनी स्वैब से 10 गुना कम है और इसे 1 रुपये और 70 रुपये में खरीदा जा सकता है।

From Around the web