अगर हालात नहीं सुधरे तो 30 मिलियन से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे आ जाएंगे: UNCTAD की रिपोर्ट

फिलहाल ये साल कोविड -19 महामारी का सामना करने वाले विकासशील और गरीब देशों के लिए सबसे कठिन होगा। व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र परिषद (UNCTAD) की रिपोर्ट में यह कहा गया है। यह कहता है कि ये देश महामारी के बीच तीन दशकों में सबसे खराब आर्थिक स्थिति का सामना करेंगे। इसमें कहा
 
अगर हालात नहीं सुधरे तो 30 मिलियन से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे आ जाएंगे: UNCTAD की रिपोर्ट

फिलहाल ये साल कोविड -19 महामारी का सामना करने वाले विकासशील और गरीब देशों के लिए सबसे कठिन होगा। व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र परिषद (UNCTAD) की रिपोर्ट में यह कहा गया है। यह कहता है कि ये देश महामारी के बीच तीन दशकों में सबसे खराब आर्थिक स्थिति का सामना करेंगे। इसमें कहा गया है कि इन देशों में बेरोजगारी लगातार बढ़ी है जब से महामारी और आय का स्तर लगातार गिर रहा है। इससे निकट भविष्य में दुनिया भर के 47 देशों में 30 मिलियन से अधिक लोग गरीबी और गरीबी में जी रहे हैं।

आर्थिक विकास दर

इसने कहा कि इन देशों में कोरोना महामारी का प्रारंभिक प्रभाव छोटा रहा है लेकिन इसका आर्थिक प्रभाव दूरगामी रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर 2010 से अक्टूबर 2020 के बीच ऐसे देशों की आर्थिक विकास दर 5 प्रतिशत से घटकर 0.4 प्रतिशत रह गई है। इससे प्रति व्यक्ति आय में लगभग 2.5 फीसदी की कमी आने की उम्मीद है। संगठन के महानिदेशक मुखसा कितुई ने कहा, “ये देश पहले से ही वित्तीय संकट में हैं।” यहां तक ​​कि कोविड -19 महामारी से पहले इन देशों में जो आर्थिक प्रगति हुई थी, वह अब बेकार हो रही है।

बड़ी समस्या

आर्थिक स्थिति के अलावा, यहां के लोग निरंतर पोषण, स्वास्थ्य और शिक्षा के स्तर पर भी आ गए हैं। कोविड -19 महामारी का प्रभाव अधिक नहीं है, पंडितों ने रिपोर्ट में कहा कि इससे जनसंख्या घनत्व में कमी आई है और युवाओं की आबादी में वृद्धि हुई है। हालांकि, यूएनसीटी ने अपने भविष्य को लेकर संदेह व्यक्त किया है। इसने कहा कि वायरस का प्रसार स्वास्थ्य क्षेत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है, जो यहां के गरीबों के लिए एक बड़ी समस्या हो सकती है।

गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले एक मिलियन से अधिक लोग

रिपोर्ट में कहा गया है कि गरीब देश जिनकी अर्थव्यवस्था कपड़ों, धातुओं और खनिजों पर निर्भर करती है, उन्हें अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। इसकी वजह है विश्व बाजार में कीमतों में तेज गिरावट। इसका कारण कहीं न कहीं दुनिया के सबसे बड़े कोरोना की महामारी है। यह भी कहा कि यदि आर्थिक संकट जल्द ही समाप्त नहीं होता है, तो इसके दूरगामी प्रभाव होंगे। इन देशों की उत्पादन क्षमता खतरनाक स्तर तक नीचे आ जाएगी। संयुक्त राष्ट्र ने बढ़ती खाद्य असुरक्षा और वैश्विक गरीबी की चेतावनी दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे गरीब देश प्रतिदिन 150 रुपये कमाने वाले लोगों की संख्या में तेज वृद्धि देख सकते हैं। रिपोर्ट में आशंका है कि यह 3 फीसदी से बढ़कर 35 फीसदी हो गया है। दुनिया के इन देशों में रहने वाले 3 करोड़ से ज्यादा लोग गरीबी रेखा से नीचे जाएंगे।

मदद की अपील

हालांकि, संगठन के महानिदेशक का कहना है कि इन देशों ने इस आर्थिक संकट से बचने के लिए अपने सभी संसाधनों को जोखिम में डाल दिया है, लेकिन वे इससे बाहर नहीं निकल सकते हैं। इन देशों के लिए सबसे बड़ी चुनौती फिर से खड़ा होना होगा। इन देशों की उत्पादन क्षमता पहले से कम है लेकिन जल्द से जल्द सुधारों के अभाव में इसमें और गिरावट आएगी। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इन देशों के लिए मदद मांगी है।

From Around the web