जरूरी सूचना :अगर आप भी नोएडा से दिल्ली जा रहे है तो एक बार पढ़ ले इस खास खबर को

कोविद -19 संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए देश भर में लॉकडाउन घोषित किया गया था। ऐसे में एक जिले से दूसरे जिले जाने के लिए भी बहुत परेशानी उठानी पड़ती है। अनलॉक करने की प्रक्रिया को चरणबद्ध तरीके से लागू किए जाने के बाद भी, दिल्ली-एनसीआर में सहज तरीके से यात्रा करना आसान
 
जरूरी सूचना :अगर आप भी नोएडा से दिल्ली जा रहे है तो एक बार पढ़ ले इस खास खबर को

कोविद -19 संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए देश भर में लॉकडाउन घोषित किया गया था। ऐसे में एक जिले से दूसरे जिले जाने के लिए भी बहुत परेशानी उठानी पड़ती है। अनलॉक करने की प्रक्रिया को चरणबद्ध तरीके से लागू किए जाने के बाद भी, दिल्ली-एनसीआर में सहज तरीके से यात्रा करना आसान नहीं है। खासकर नोएडा-गाजियाबाद से दिल्ली आने या जाने के लिए एक पास की जरूरत होती है। अब अनलॉक (UNLOCK 4.0) के चौथे चरण में इसे मुक्त किया जा सकता है। स्थानीय प्रशासन आंदोलन के लिए पास प्रणाली को समाप्त करने की तैयारी कर रहा है। यदि ऐसा होता है, तो यह आम लोगों और नौकरीपेशा लोगों के लिए बहुत आसान होने की उम्मीद है।

जरूरी सूचना :अगर आप भी नोएडा से दिल्ली जा रहे है तो एक बार पढ़ ले इस खास खबर को

UNLOCK 4.0

ऐसे लोगों को केवल आरोग्य सेतु ऐप पर हरी स्थिति दिखाने की आवश्यकता है। यूपी सरकार के निर्देश के बाद स्थानीय प्रशासन यह कदम उठाने जा रहा है, जिसमें लोगों की आवाजाही और माल ढुलाई पर सभी प्रतिबंधों को समाप्त करने की बात कही गई है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि सप्ताहांत के दौरान लोगों की आवाजाही पर पहले की तरह प्रतिबंध लगाया जाएगा या नहीं।

यूपी सरकार के इस फैसले से दिल्ली और एनसीआर के अन्य शहरों में रहने वाले हजारों लोगों को राहत मिल सकती है। आपको बता दें कि अनलॉक का चौथा चरण 1 सितंबर से लागू होने जा रहा है। इस चरण में, लोगों को कई अन्य रियायतें देने की तैयारी है। गाजियाबाद और नोएडा से राजधानी जाने वाले लोगों को पास और परमिट से छूट दी जाएगी, लेकिन बदले में नई व्यवस्था को लागू करने की योजना है।

ऐसे लोगों को मोबाइल फोन पर इंस्टॉल किए गए आरोग्य सेतु ऐप पर हरी स्थिति दिखानी होगी। ऐसा करने के बाद ही उन्हें आगे बढ़ने दिया जाएगा। इस समय के दौरान सामाजिक भेद का पालन करना भी अनिवार्य होगा। दूसरी ओर, यात्रा परमिट प्रणाली को भी खत्म कर दिया जाएगा। इससे मालवाहक वाहनों को काफी आसानी होगी।

From Around the web