मैं भगोड़ा नहीं हूं, इलाज के लिए भारत छोड़ा था: मेहुल चोकसी

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ 13,500 करोड़ रुपये के घोटाले के बाद विदेश भाग गए और डोमिनिका में प्रत्यर्पण मामले का सामना कर रहे हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी ने कहा है कि वह भारतीय एजेंसियों के डर से नहीं भागते हैं। मेहुल चौकसी ने देश छोड़ने की वजह बताते हुए कहा कि
 
मैं भगोड़ा नहीं हूं, इलाज के लिए भारत छोड़ा था: मेहुल चोकसी

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ 13,500 करोड़ रुपये के घोटाले के बाद विदेश भाग गए और डोमिनिका में प्रत्यर्पण मामले का सामना कर रहे हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी ने कहा है कि वह भारतीय एजेंसियों के डर से नहीं भागते हैं।

मेहुल चौकसी ने देश छोड़ने की वजह बताते हुए कहा कि वह इलाज के लिए देश छोड़कर गए हैं. उन्होंने खुद को कानून का पालन करने वाला नागरिक भी बताया। साक्षात्कार के लिए भारतीय एजेंसियों को आमंत्रित करते हुए चोकसी ने कहा कि वह किसी भी सवाल का जवाब देने के लिए तैयार हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 62 साल के बिजनेसमैन मेहुल चोकसी ने डोमिनिका हाई कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल कर कहा है, ”मैंने भारतीय अधिकारियों से कहा है कि मेरा इंटरव्यू लें और किसी भी जांच के बारे में कोई सवाल पूछें.”

मेहुल चोकसी ने कहा, ‘मैं भारतीय एजेंसियों से नहीं भागा हूं। जब मैं अमेरिका में इलाज के लिए देश से निकला तो मेरे खिलाफ कोई वारंट नहीं था।

मेहुल चोकसी जनवरी 2018 में देश छोड़कर चला गया था। 13,500 करोड़ रुपये का पीएनबी घोटाला सामने आने के कुछ दिन पहले ही मेहुल चोकसी देश छोड़कर भाग गया था और तब से एंटीगुआ में रह रहा है। इसके बाद एक बार भी मेहुल सही देश नहीं लौटा है। सीबीआई और ईडी ने उसके खिलाफ मामले दर्ज किए हैं।

मेहुल चोकसी ने 3 जून को डोमिनिका हाई कोर्ट में दायर एक अर्जी में कहा था कि वह भागना नहीं चाहता है. उन्होंने यह भी दावा किया कि इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस एक अंतरराष्ट्रीय वारंट नहीं था, बल्कि आत्मसमर्पण की अपील थी।

From Around the web