खुशख़बरी : भारत की यह कोरोना दवा करेगी कोरोनावायरस का अंत , अब टेंशन लेने का नहीं कोरोना को देने का

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ने के मामले में एक अच्छी खबर सामने आ रही है। कोरोना वायरस की जेनेरिक दवा को पांच राज्यों में भेजा गया है। हैदराबाद स्थित कंपनी हेटेरो ने कोविफोर के नाम से रेमेड्सविर का एक सामान्य संस्करण बनाया है। कंपनी ने 20,000 शीशियों की पहली खेप दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात और
 
खुशख़बरी  : भारत की यह कोरोना दवा करेगी कोरोनावायरस का अंत , अब टेंशन लेने का नहीं कोरोना को देने का

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ने के मामले में एक अच्छी खबर सामने आ रही है। कोरोना वायरस की जेनेरिक दवा को पांच राज्यों में भेजा गया है। हैदराबाद स्थित कंपनी हेटेरो ने कोविफोर के नाम से रेमेड्सविर का एक सामान्य संस्करण बनाया है। कंपनी ने 20,000 शीशियों की पहली खेप दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु जैसे राज्यों में भेजी है जो कोरोना से बुरी तरह प्रभावित हैं। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद, जहां यह कंपनी है, दवा का पहला उपयोग भी करेगी। हेटेरो के अनुसार, 100 मिलीग्राम कोविफोर 5,400 रुपये में उपलब्ध होगा। कंपनी ने अगले तीन-चार हफ्तों में एक लाख दवाई बनाने का  लक्ष्य रखा है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें

आम जनता के लिए, यह इंजेक्शन कंपनी की हैदराबाद में सूत्रीकरण सुविधा में बनाया जा रहा है।

दवा के सक्रिय दवा घटक को विशाखापत्तनम में एक इकाई में निर्मित किया जा रहा है।

दवा की अगली खेप भोपाल, इंदौर, कोलकाता, पटना, लखनऊ, रांची, भुवनेश्वर, कोच्चि, विजयवाड़ा, गोवा और त्रिवेंद्रम भेजी जाएगी।

वर्तमान में, यह दवा केवल अस्पतालों और सरकार के माध्यम से उपलब्ध है, न कि मेडिकल स्टोर्स पर।

खुशख़बरी  : भारत की यह कोरोना दवा करेगी कोरोनावायरस का अंत , अब टेंशन लेने का नहीं कोरोना को देने का

भारतीय दवा कंपनी सिप्ला ने अमेरिकी कंपनी गिलियड साइंसेज के साथ लाइसेंसिंग समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जो रेमेडिसवीर बनाती है।

सिप्ला इस दवा को बनाएगी और बेचेगी भी। कंपनी का कहना है कि इसकी दवा 5,000 रुपये से कम में उपलब्ध होगी।

भारत में एलोपैथिक दवाओं के नियामक ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने सिप्ला और हेटेरो दोनों को

गंभीर कोविद -19 रोगियों पर प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग के लिए दवाइयां बनाने और बेचने की अनुमति दे दी है।

From Around the web