बर्थडे स्पेशल 4 अक्टूबर: बंगाली फिल्मों की सर्वश्रेष्ठ गायिका संध्या मुखर्जी

बंगाली फिल्मों की सर्वश्रेष्ठ गायिकाओं में से एक संध्या मुखर्जी गायिकी के क्षेत्र का एक बड़ा नाम है। संध्या मुखर्जी का जन्म 4 अक्टूबर 1931 को ढकुरिया, कोलकाता में नरेंद्रनाथ मुखोपध्याय और हेमपूर्वा देवी के घर हुआ था। संध्या मुखर्जी के पिता रेलवे में अफसर थे। संध्या मुखर्जी को बचपन से ही संगीत में गहरी रुचि थी।

 
birthday special 4 October Sandhya Mukherji

नई दिल्ली, 3 अक्टूबर 2021. बंगाली फिल्मों की सर्वश्रेष्ठ गायिकाओं में से एक संध्या मुखर्जी गायिकी के क्षेत्र का एक बड़ा नाम है। संध्या मुखर्जी का जन्म 4 अक्टूबर 1931 को ढकुरिया, कोलकाता में नरेंद्रनाथ मुखोपध्याय और हेमपूर्वा देवी के घर हुआ था। संध्या मुखर्जी के पिता रेलवे में अफसर थे। संध्या मुखर्जी को बचपन से ही संगीत में गहरी रुचि थी। उन्होंने अपने गायन की प्रारंभिक शिक्षा प्रोफेसर ए.टी. कनन, पंडित सन्तोष कुमार बसु एवं प्रोफेसर चिन्मोय लहरी से ग्रहण की थी। इसके अतिरिक्त भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा दीक्षा उस्ताद बड़े गुलाम अली ख़ाँ से ली।

संध्या मुखर्जी ने अपनी खूबसूरत आवाज की बदौलत बंगाली के साथ-साथ हिंदी फिल्मों में भी कई गीत गाये। हालांकि उन्होंने ज्यादातर बांग्ला भाषा में ही गीत गाये हैं। उनके द्वारा गाये हिंदी गानों में ये बात कोई समझाए रे (सजा), बोल पपीहे बोल (तराना), मैंने जो ली अंगड़ाई( जागते रहो), तोसे नाना लागे रे सावरिया(ममता) आदि शामिल हैं। वहीं बंगाली फिल्मों में उन्होंने ‘ई गाने प्रजापति’, ‘ओई डुस्तो चोखेर मिस्टी हसी’, ‘ई सुधू गानेर दिन’ जैसे कई सदाबहार गीत गायें। इन सबके अलावा संध्या मुखर्जी ने बांग्लादेश लिबरेशन वॉर’ के दौरान जन आन्दोलन में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और बांग्लादेश के स्वतंत्र होने के बाद 1971 में संध्या मुखर्जी ने बांग्लादेश जाकर अपनी प्रस्तुति भी दी थी।
birthday special 4 October Sandhya Mukherji
संध्या मुखर्जी को बंगाल के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘बंगा विभूषण’ से नवाजा जा चुका है। इसके अलावा उन्हें 1970 में आई फिल्म ‘जय जयंती’ एवं ‘निशी पद्मा’ में गाये अपने गीतों के लिए ‘बेस्ट फीमेल सिंगर’ का नेशनल फिल्म अवार्ड भी मिल चुका है। संध्या मुखर्जी के गाये गीत फैंस के बीच काफी पसंद किये जाते हैं।

From Around the web