PM Shram Yogi Mandhan Yojana। मजदूरों के लिए खुशखबरी, अब 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन पाएं, ऐसे करें आवेदन

PM Shram Yogi Mandhan Yojana (PMSYM)' नामक एक सरकारी योजना शुरू की है। एक निश्चित उम्र तक पहुंचने के बाद केंद्र सरकार असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को नियमित पेंशन देती है।
 
PM Shram Yogi Mandhan Yojana Good news for laborers, now get Rs 3000 per month pension

आपको प्रीमियम पर कितने रुपये मिलेंगे? 

सिर्फ पति या पत्नी को मिलेगी पेंशन 

ऑटो डेबिट की सुविधा मिलेगी

प्रीमियम का भुगतान करने में विफलता?

Sabkuchgyan Team, 5 सितंबर 2021: - केंद्र सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करने के लिए PM Shram Yogi Mandhan Yojana (PMSYM)' नामक एक सरकारी योजना शुरू की है। एक निश्चित उम्र तक पहुंचने के बाद केंद्र सरकार असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को नियमित पेंशन देती है। इन लोगों को अधिकतम 3,000 रुपये पेंशन मिलती है। इसमें बहुत कम प्रीमियम खर्च होता है। तो आइए जानते हैं इस योजना के बारे में।

किसे लाभ :-
यह योजना मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए एक पेंशन योजना है। पीयूष गोयल ने फरवरी 2019 में संगठित और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए इस योजना की शुरुआत की थी। यह योजना असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को न्यूनतम 3,000 रुपये पेंशन का भुगतान करती है। इस योजना के लिए 18 से 40 वर्ष आयु वर्ग के लोग आवेदन कर सकते हैं।

आपको प्रीमियम पर कितने रुपये मिलेंगे? :-
इस योजना के लिए आवेदन करते समय श्रमिकों को आधार कार्ड और बचत बैंक खाते की आवश्यकता होती है। अगर ग्राहक को 18 साल की उम्र में योजना का लाभ उठाना है, तो उसे सेवानिवृत्ति के बाद मासिक पेंशन के रूप में 3,000 रुपये मासिक पाने के लिए केवल 55 रुपये का प्रीमियम देना होगा। यह एक वैकल्पिक और निवेश पेंशन योजना है। पेंशन प्राप्त करते समय, यदि निवेशक की मृत्यु हो जाती है, तो लाभार्थी के पति या पत्नी को प्राप्त पेंशन का 50 प्रतिशत परिवार पेंशन के रूप में भुगतान किया जाएगा।

सिर्फ पति या पत्नी को मिलेगी पेंशन :-
यह ध्यान रहे कि फैमिली पेंशन सिर्फ पति या पत्नी को ही मिलती है । यदि कोई लाभार्थी नियमित प्रीमियम का भुगतान करता है और 60 वर्ष की आयु से पहले किसी भी कारण से उसकी मृत्यु हो जाती है, तो उसका जीवनसाथी योजना में शामिल होने और नियमित योगदान राशि का भुगतान करके आगे बढ़ने या बाहर निकलने का हकदार है। इस योजना के लिए आप किसी भी नजदीकी सीएससी यानी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

ऑटो डेबिट की सुविधा मिलेगी:-
इस योजना के तहत ग्राहक का प्रीमियम उसके बचत बैंक खाते या जन-धन खाते से 'ऑटो-डेबिट' सुविधा के माध्यम से काट लिया जाएगा। यानी आप खुद पैसे बचाते हैं और तारीख याद रखने के झंझट से बचते हैं। योजना में शामिल होने की आयु से लेकर 60 वर्ष की आयु तक, ग्राहक को निर्धारित राशि का प्रीमियम देना होता है। इस योजना में केंद्र सरकार द्वारा लाभार्थी के प्रीमियम के साथ इतनी ही राशि का भुगतान किया जाता है। इसका मतलब है कि आप जितना जमा करेंगे, सरकार उतनी ही जमा करेगी।

विज्ञापन

प्रीमियम का भुगतान करने में विफलता? :-
यदि लाभार्थी 20 वर्ष की आयु में योजना में प्रवेश करता है तो उसे ६० वर्ष की आयु तक ६१ रुपये प्रतिमाह अंशदान करना आवश्यक है तथा नियमानुसार केंद्र सरकार ६१ रुपये प्रतिमाह उसके खाते में जमा करेगी। प्रति व्यक्ति कुल प्रीमियम रु. एक और बात यह है कि यदि ग्राहक लगातार प्रीमियम का भुगतान करने में विफल रहता है, तो वह सरकार के निर्णय के अनुसार, यदि लागू हो, शुल्क के साथ राशि का भुगतान करके योजना और प्रीमियम को नियमित कर सकता है।

From Around the web