भोपालः बिजली विभाग का अधीक्षण यंत्री एक लाख की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

 
Superintending Engineer of Electricity Department arrested
भोपाल, 23 सितम्बर । भोपाल में लोकायुक्त पुलिस ने बुधवार को बिजली विभाग के अधीक्षण यंत्री अजय प्रताप सिंह जादौन को एक लाख स्र्पये की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। गुरुग्राम निवासी एक कंपनी की ऊर्जा सलाहकार की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई।

लोकायुक्त पुलिस के अनुसार, गुरुग्राम के सोहना रोड निवासी अस्मिता पाठक ने गत 20 सितम्बर को लोकायुक्त कार्यालय में शिकायत की थी कि वह दर्श रिन्युअल प्रालि के लिए ऊर्जा सलाहकार का कार्य करती हैं। कंपनी का सिंगरौली में 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के चार्जिंग का काम है। चार्जिंग, विद्युत ठेकेदारी लायसेंस और कंपनी के 22 लाख रुपये के बकाया बिल की स्वीकृति के लिए अधीक्षण यंत्री जादौन द्वारा 15 लाख रुपये की रिश्वत की मांग की जा रही है, जिसके टोकन के लिए एक लाख रुपये पहले देने है।
Superintending Engineer of Electricity Department arrested
शिकायत की पुष्टि होने के बाद लोकायुक्त की टीम ने योजनाबद्ध तरीके से बुधवार दोपहर को पाठक सतपुड़ा भवन स्थित तीसरी मंजिल पर बने कक्ष में अधीक्षण यंत्री जादौन को रिश्वत रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया। लोकायुक्त उप पुलिस अधीक्षक सलिल शर्मा एवं सूर्यकांत अवस्थी के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई। आरोपित अधीक्षण यंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। आगे की कार्रवाई जारी है।

From Around the web