सुपारी देकर ली बेटे की जान माँ बाप ने , वजह चौंका देने वाली

मेरठ ।। यहां पत्नी के साथ मिलकर एक युवक ने अपने ही बेटे की हत्या सुपारी देकर करा दी, पुलिस ने आरोपी पिता, मां के साथ तीन सुपारी किलर को गिरफ्तार किया है। हत्याकांड को प्रोपर्टी के लालच में अंजाम दिया था। मृतक की शिनाख्त संजीव के रूप में हुई है जोकि मेरठ के भावनपुर
 

मेरठ ।। यहां पत्नी के साथ मिलकर एक युवक ने अपने ही बेटे की हत्या सुपारी देकर करा दी, पुलिस ने आरोपी पिता, मां के साथ तीन सुपारी किलर को गिरफ्तार किया है। हत्याकांड को प्रोपर्टी के लालच में अंजाम दिया था। मृतक की शिनाख्त संजीव के रूप में हुई है जोकि मेरठ के भावनपुर थाना इलाके के किनानगर का रहने वाला था।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

भाई ने कराई थी शिकायत दर्ज

मेरठ के भावनपुर थाना इलाके के किनानगर के रहने वाले अभिषेक ने थाने में अपने भाई संजीव की गुमशुदगी शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद  इस मामले में अभिषेक ने ही अपने पिता ओमपाल और अपनी सौतेली मां सुरेखा पर अपहरण व हत्या का केस दर्ज कराया था।

प्रोपर्टी के लालच में कराया कत्ल

हत्याकांड में पुलिस ने संजीव के पिता ओमपाल, उसकी सौतेली मां सुरेखा व तीन सुपारी किलर अशोक,

सुनील व दीपक को गिरफ्तार किया है। मृतक संजीव की सौतेली मां को प्रोपर्टी का लालच था।

साथ ही साथ वो संजीव को पसंद नहीं करती थी। इसी वजह से वह अपने पति पर संजीव को रास्ते से हटाने का दबाव बनाती थी। ओमपाल भी संजीव को पसंद नहीं करता था और सारी प्रोपर्टी दूसरी पत्नी को देना चाहता था। इसी वजह से हत्याकांड को अंजाम दिया गया।

ढाई लाख रुपये में दी सुपारी

दोनों ने संजीव की हत्या करने के लिए सुपारी किलर्स को ढाई लाख की सुपारी दी। बतौर एडवांस सुपारी किलर को 35 हज़ार रुपये भी दिये गये। सुपारी लेने वालों में सुरेखा का एक भाई भी शामिल था।

भरोसे में लेकर किया कत्ल

तीनों सुपारी किलर अशोक, सुनील व दीपक ने संजी की शादी कराने के बहाने उससे संपर्क किया।

जब संजीव को तीनों पर भरोसा हो गया तो  सुपारी किलर उसे गाजियाबाद लेकर आए।

यहां शराब पिलाने के बाद उसकी गला रेतकर हत्या कर दी।

सुपारी देकर ली बेटे की जान माँ बाप ने , वजह चौंका देने वाली
गाजियाबाद पुलिस ने खेतों से शव बरामद किया, लेकिन शव की शिनाख्त ना होने की वजह से

तीन बाद  अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मामला खुलने के बाद पुलिस ने आरोपियों के पास से 35 हज़ार रुपये नकद,

संजीव का पर्स व वारदात में इस्तेमाल हथियार बरामद कर लिया है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप-  Download Now

From Around the web