ललितपुर दुष्कर्म कांड : झांसी सपा जिलाध्यक्ष समेत ढाई सौ लोगों पर मुकदमा

ललितपुर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म मामले में अब झांसी के सपा जिलाध्यक्ष समेत ढाई सौ लोगों पर पुलिस ने धारा 144 का उल्लघंन करने व पीड़िता का नाम उजागर करने के मामले
 
Lalitpur rape case Case against two hundred and fifty people including Jhansi SP District President
ललितपुर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म मामले में अब झांसी के सपा जिलाध्यक्ष समेत ढाई सौ लोगों पर पुलिस ने धारा 144 का उल्लघंन करने व पीड़िता का नाम उजागर करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया है।

Lalitpur rape case Case against two hundred and fifty people including Jhansi SP District President


इसके विरोध करते हुए झांसी सपा जिला अध्यक्ष ने पुलिस पर भी मुकदमा दर्ज करने की अपील की है। अपने तर्क में उन्होंने कहा कि उस नाबालिग पीड़िता का नाम उन्होंने उजागर नहीं किया, बल्कि पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में पहले ही दर्ज कर चुकी है। इस नाते पुलिस पर भी मुकदमा होना चाहिए, पुलिस हमसे पहले दोषी है।

बीते रोज ललितपुर में हुए दुष्कर्म कांड की जानकारी के बाद झांसी जिले के समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष महेश कश्यप ललितपुर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से मामले में निष्पक्ष जांच का निवेदन करने गए थे। उनके साथ करीब ढाई सौ लोग भी थे। जनपद में त्योहारों को देखते हुए पहले ही धारा 144 लगाई जा चुकी है। इसका उल्लंघन होते देख पुलिस ने महेश कश्यप समेत ढाई सौ अज्ञात सपाइयों पर धारा 144 के उल्लंघन करने व नाबालिग पीड़िता का नाम उजागर करने के चलते मुकदमा दर्ज कर लिया।

गुरुवार को जब इसकी जानकारी झांसी जिला अध्यक्ष महेश कश्यप को हुई तो उन्होंने इसे लोकतंत्र पर हमला बताया। उन्होंने कहा यह सच है कि हमारे साथ काफी लोग थे। जब किसी बड़ी पार्टी के नेता पर आरोप लगता है तो लोगों का आक्रोश जाग उठता है और यही कल हुआ। लोग सड़कों पर थे और हम लोगों ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से निवेदन करते हुए पीड़िता को न्याय दिलाने और निर्दोषों पर कार्रवाई न करने का ही निवेदन किया है। लेकिन सही मायने में तो पुलिस दोषी है कि उन्होंने नाबालिग पीड़िता का नाम उजागर किया। जबकि उन्हें पीड़िता का नाम बदलकर लिखना चाहिए था। यदि हम पर मुकदमा लिखा है तो हमसे पहले इस मुकदमे के हकदार पुलिसकर्मी हैं। पुलिस और प्रशासन पर भी मुकदमा लिखा जाना चाहिए।

कहा कि हम लोग पीड़िता के पक्ष में हैं, उसे हर हाल में न्याय मिलना ही चाहिए, लेकिन निर्दोषों के खिलाफ कार्रवाई न हो यह हम आज भी निवेदन कर रहे हैं।

From Around the web