देवास: चोर ने लिखी चिट्ठी- घर में पैसे नहीं थे तो लॉक क्यों किया?

 खातेगांव एसडीएम त्रिलोचन सिंह गौड़ के सिविल लाइन स्थित सरकारी आवास में पिछले दिनों चोरी की वारदात हो गई। शनिवार शाम को जब वे देवास स्थित सरकारी आवास पर आए तो उन्होंने ताला टूटा देखा। घर से
 
Devas: The thief wrote the letter - if there was no money in the house, why did you lock it?
 खातेगांव एसडीएम त्रिलोचन सिंह गौड़ के सिविल लाइन स्थित सरकारी आवास में पिछले दिनों चोरी की वारदात हो गई। शनिवार शाम को जब वे देवास स्थित सरकारी आवास पर आए तो उन्होंने ताला टूटा देखा। घर से ज्यादा कुछ सामान तो चोरी नहीं गया, लेकिन एसडीएम के नाम लिखी एक चिट्ठी जरूर मिली जो चोर की हताशा को उजागर करती है। इस चिट्ठी में चोर ने लिखा है कि "जब पैसे नहीं थे तो घर लॉक नहीं करना था कलेक्टर"।
Devas: The thief wrote the letter - if there was no money in the house, why did you lock it?
प्राप्त जानकारी के मुताबिक 15 दिनों पहले डिप्टी कलेक्टर त्रिलोचन सिंह गौड़ को खातेगांव का एसडीएम नियुक्त किया गया था। डिप्टी कलेक्टर का सरकारी आवास सांसद निवास के बिल्कुल पास है। पिछले 15 दिनों से आवास में ताला लगा हुआ था, इसी दौरान उसमें चोरी की वारदात हो गई। शनिवार को जब एसडीएम आवास में लौटे तो उन्होंने ताला टूटा देखा। पुलिस को सूचना दी गई। इसी दौरान कुर्सी पर उन्हीं की डायरी और पेन का उपयोग कर लिखा गया एक पत्र मिला। उसमें लिखा था कि "जब पैसे नहीं थे तो लॉक नहीं करना था कलेक्टर"।

संभवत: चोर को उम्मीद थी कि सरकारी अधिकारी के आवास में उसे जमकर नगदी और गहने मिलेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ जिससे नाराज होकर उसने पत्र लिखा। कोतवाली पुलिस ने एसडीएम की रिपोर्ट पर 30 हजार नगद, एक अंगूठी,चांदी की पायल और सिक्के चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज की है।

From Around the web