दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद- हत्या का कोई सुराग नहीं

राजस्थान के अलवर में एक महिला की ट्रेन के एसी कोच के टॉयलेट में मौत का मामला सामने आया है। घटना सोमवार की है। दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद हुआ है। महिला के शरीर पर गहरे चोट के निशान हैं और उसकी सोने की ईयररिंग्स और
 
दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद- हत्या का कोई सुराग नहीं

राजस्थान के अलवर में एक महिला की ट्रेन के एसी कोच के टॉयलेट में मौत का मामला सामने आया है। घटना सोमवार की है। दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद हुआ है। महिला के शरीर पर गहरे चोट के निशान हैं और उसकी सोने की ईयररिंग्स और हाथों की चूड़ियां गायब है।

दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद- हत्या का कोई सुराग नहीं

जीआरपी का कहना है कि मौत की असली वजह का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पता चल सकेगी। यह घटना चित्तौड़ में रात के ढाई बजे घटित हुई। यह जोड़ा सूरत जा रहा था और अलवर का रहने वाला है। मृतका का नाम अंजू है जिसकी उम्र 28 साल है। वह अपने पति जितेंद्र और दो साल के बेटे प्रीतेश के साथ थी।

दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद- हत्या का कोई सुराग नहीं

घटना दिल्ली सराय रोहिल्ला-इंदौर इंटरसिटी एक्सप्रेस के थर्ड एसी कोच में ये घटना घटी है। ट्रेन अलवर से दिल्ली आ रही थी। महिला की पहचान अंजू यादव के तौर पर की गई है जो अलवर के मंडा की रहने वाली है।

वह अपने पति जितेंद्र यादव और दो वर्षीय बेटे के साथ ट्रेन में यात्रा कर रही थी। महिला के पति जितेंद्र ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ बर्थ नंबर 25 और 28 की रिजर्व सीट पर सो रहा था। उसका दो वर्षीय बेटा उसकी पत्नी अंजू के साथ था।

इसके बाद जीतेंद्र कोच के दूसरे छोर पर मौजूद टॉयलेट में पत्नी को ढूंढने के लिए गया तो वह कंबोड पर बैठी हुई और एक साइड लुढ़की हुई थी। उसके गले में चुन्नी लिपटी हुई थी। अटेंडर टॉयलेट के पास ही सो रहा था मगर उसने घटना के बारे में किसी भी तरह की जानकारी होने से मना किया।

दिल्ली-इंदौर ट्रेन के थर्ड एसी कोच के टॉयलेट में एक महिला का शव बरामद- हत्या का कोई सुराग नहीं

जितेंद्र ने आगे बताया कि रात को 2-2:30 बजे के करीब वह अपने बेटे की रोने की आवाज सुनकर उठ बैठा। अंजू अपने बर्थ पर नहीं थी। जब वह अपनी पत्नी की तलाश में कोच के टॉयलेट तक पहुंचा तो वहां का नजारा देखर हैरान रह गया।

उसकी पत्नी अंजू कमोड पर मृत अवस्था में पड़ी थी और उसके गले के चारों तरफ दुपट्टा लपेटा हुआ था। जितेंद्र ने बताया कि वह कोच के गार्ड की तलाश करने लगा लेकिन उसे कोई गार्ड नहीं दिखा। ऐसे में जितेंद्र ने ट्रेन की चेन खींची और ट्रेन रोकी जिसके बाद ट्रेन स्टाफ ने आरपीएफ बलों को इसकी सूचना दी।

जीआरपी एसएचओ और उनकी टीम ने महिला के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। एसएचओ का कहना है कि महिला के साथ लूटपाट करने के बाद उसकी गला दबाकर हत्या किए जाने की संभावना प्रतीत होती है। इस संबंध में हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

From Around the web