अंधविश्वास का कहरः एक ही परिवार के तीन लोगों की निर्मम हत्या, हत्यारोपित भतीजे का आत्मसमर्पण

 
BLIND FAITH 3 KILLED IN GUMLA
गुमला, 26 सितंबर। डायन बिसाही जैसे अंधविश्वास से ग्रामीण जनमानस किस कदर जकड़ा हुआ है, इसका उदाहरण शनिवार की देर रात गुमला थाना क्षेत्र के लुटो गांव में देखने को मिला। यहां डायन बिसाही को लेकर एक ही परिवार के दो महिला समेत तीन लोगों की टांगी से काट कर निर्मम हत्या कर दी गई। मरने वालों में बंधन उरांव (55), उसकी पत्नी सोमारी देवी (50) व बहु बासमुनी शामिल हैं।

बताया जाता है कि लूटो गांव के ही बंधन उरांव, उसकी पत्नी सोमारी देवी के रिश्ते में लगने वाले भतीजे ने ही हत्या की। घटना के बाद आरोपित भतीजा बिपता उरांव गांव से फरार हो गया।। हालांकि बाद में वह रात करीब 10 बजे कोटाम पुलिस पिकेट पहुंच कर हत्या की बात स्वीकारते हुए आत्मसमर्पण कर दिया।

आरोपित ने पुलिस को बताया कि तीनों मृतक डायन बिसाही करके उनके परिवार को बर्बाद करने पर तुले हुए थे इसलिए उनकी हत्या की बात कही।

इधर घटना की सूचना के बाद देर रात पुलिस ने घटनास्थल पहुंचकर शवों को पोस्टमार्टम हेतु सदर अस्पताल भेजा। साथ ही हत्या में प्रयुक्त टांगी बरामद किया गया है। सदर एसडीपीओ मनीष चंद लाल व थानेदार मनोज कुमार भी दलबल के साथ घटनास्थल पहुंच कर घटना की छानबीन में जुट गए।
BLIND FAITH 3 KILLED IN GUMLA
सदर एसडीपीओ मनीष चंद्रलाल ने बताया कि हत्या के पीछे मृतक बंधन के भतीजे का हाथ है। उसने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण भी कर दिया है।

बताया जाता है कि मृतक बंधन की पत्नी सोमारी गांव में झाड़फूंक व ओझागुणी का काम करती थी। इसी कारण उसका भतीजे के साथ अक्सर विवाद होता रहता था। प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार की शाम मृतक बंधन उरांव परिवार के साथ खेत से काम कर घर लौटा। रात करीब 8 बजे बहु अपने सास ससुर को खाना खिला रही थी। इसी दौरान आरोपित बिपता उरांव ने घर में घुसकर तीनों को टांगी से वार कर मौत के घाट उतार दिया।

बताया जाता है कि बहु बासमुनी के पति बालकिशुन चेन्नई में मजदूरी करने गया हुआ है। घटना के समय घर पर तीनों मृतकों के अलावा बहु बासमुनी के दो मासूम बच्चे 6 वर्षीय ज्ञानी व 3 वर्षीय ज्ञान घर में सो रहे थे। जिसके कारण उनकी जान बच गई। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर रही है।

 

From Around the web