आप शायद ही जानते होंगे की जमीन में बैठना बदल सकता है आपकी ज़िन्दगी , ये है फायदे

आजकल लोग टेबल पर बैठकर सोफे पर बैठ कर या फिर लेट कर TV देखते हुए भोजन करते हैं लेकिन यह चलन बिल्कुल बेकार है यह चलन आजकल बढ़ता जा रहा है दोस्तों जमीन पर बैठकर खाने का एक अलग ही मजा होता है, जमीन पर बैठकर खाने से एक प्रकार का योग भी होता
 
आप शायद ही जानते होंगे की जमीन में बैठना बदल सकता है आपकी ज़िन्दगी , ये है फायदे

आजकल लोग टेबल पर बैठकर सोफे पर बैठ कर या फिर लेट कर TV देखते हुए भोजन करते हैं लेकिन यह चलन बिल्कुल बेकार है यह चलन आजकल बढ़ता जा रहा है दोस्तों जमीन पर बैठकर खाने का एक अलग ही मजा होता है, जमीन पर बैठकर खाने से एक प्रकार का योग भी होता है और इसके गजब के फायदे होते हैं जो आज हम आपको बता रहे हैं आइए जानते हैं जमीन पर बैठकर खाने से क्या फायदे होते हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

आप शायद ही जानते होंगे की जमीन में बैठना बदल सकता है आपकी ज़िन्दगी , ये है फायदे

n1. जमीन पर यदि आप पालथी मारकर बैठते हैं जिसे हम सुखासन कहते हैं,

यह स्थिति में बैठने से हमारा दिमाग शांत होता है और भोजन पचने में बहुत ही लाभदायक होता है

और इससे हमारे शरीर को सुख की संतुष्टि होती है।

  1. जवाब पालती मारकर बैठते हैं तो इस स्थिति में पीठ के निचले भाग तथा कमर के पास दबाव पड़ता है,

जिससे कि हमारे शरीर में भोजन पचने की समस्या नहीं होती भोजन आसानी से पच जाता है

इसलिए हमेशा जमीन पर बैठकर पालथी मारकर खाना खाना चाहिए।

  1. जमीन पर जब हम पालथी मारकर बैठ के खाना खाते हैं तो

हमें हर निवाला खाते समय थोड़ा सा आगे की तरफ जाना पड़ता है

और फिर सीधा होना पड़ता है, इस स्थिति में हमारी अम्लों का उत्सर्जन बेहतर ढंग से होता है

जिससे खाना बड़ी ही आसानी से पच जाता है।

  1. जमीन पर बैठकर खाना खाने से हमारी पीठ की रीड की हड्डी तथा हमारी पीठ दर्द की समस्या में कमी आती है,

एवम व्यक्ति की आयु लंबी होती है।

  1. जमीन पर बैठकर खाना खाने से यानी सुखासन की स्थिति में बैठकर खाने से हमारे शरीर में रक्त का प्रभाव बिल्कुल सही होता है,

जिससे हृदय संबंधित समस्याओं का सामना कभी भी नहीं करना पड़ता इसे

अधिकतर गांव के लोग स्वस्थ रहते हैं, और उन्हें हृदय संबंधी बीमारी कभी नहीं होती

क्योंकि ज्यादातर गांव के लोग जमीन पर बैठकर खाना खाते हैं।

From Around the web